Encroachment Wardha

    वर्धा. सिंदी(मेघे) ग्रामपंचायत अंतर्गत विक्रमशिलानगर में मंदा मेश्राम के प्लाट क्रमांक 18 की कुछ जगह मार्ग के लिए ग्रामसभा अंतर्गत खरेदी की थी़  लेकिन शपथपत्र को ठेंगा दिखाते हुए अतिक्रमण किया गया था़  जिससे नागरिकों को अवागमन हो रही दिक्कतों को ध्यान में रखकर ग्रामपंचायत प्रशासन ने आगे आकर अतिक्रमण हटाया गया़  जिससे नागरिकों ने राहत की सांस ली है़ मंदा दुर्योधन मेश्राम के प्लाट क्रमांक 18 में से पश्चिम की 500 चौ़ फीट जगह मार्ग के लिए 2013 में ग्रामपंचायत ने प्राप्त की थी.

    मांग की अनुसार 90 हजार रुपए देने की बात गांववासियों ने मान्य की थी़  जिसके तहत 90 हजार रुपयों की वर्गनी जमा कर मंदा दुर्योधन मेश्राम को दिए गए़  पश्चात जगह मार्ग के लिए नागरिकों को दी गई़  रकम देने के बाद नागरिकों को मार्ग के लिए जगह उपलब्ध करने की बात ग्रामसभा में शपथपत्र द्वारा मान्य की थी़  लेकिन जगह नागरिकों के नाम पर रहेगी या फिर ग्रामपंचायत के यह प्रश्न उपस्थित हुआ था़  500 फीट जगह की बिक्री करने की अनुमति नहीं, ऐसा निबंधक द्वारा नागरिकों को बताया गया़  फिर भी बिक्री की अनुमति के लिए नागरिक प्रयास कर रहे है़.  

    शपथपत्र अनुसार मंदा मेश्राम द्वारा 500 फिट जगह दी थी़  लेकिन उन्होंने शपथपत्र पर अनदेखी कर 19 नवंबर 2019 को बक्षिसपत्र द्वारा जगह अजय दुर्योधन मेश्राम को दी़  पश्चात जगह पर अतिक्रमण किया.  

    मार्ग पर 2014 में डामरीकरण 

    ग्रामपंचातय सिंदी द्वारा 500 फीट के इस मार्ग पर 2014 में डामरीकरण किया है़  जिसके लिए मंदा मेश्राम ने अनुमति दी थी़  500 फीट जगह अवैध रूप से प्राप्त करने के लिए अजय दुर्योधन मेश्राम व उनकी पत्नी सारिका अजय मेश्राम ने मार्ग पर अतिक्रमण कर मुरूम, गि‍ट्टी व रेत डालकर रखने से नागरिकों को अवागमन में बाधा निर्माण हो रही थी़  मार्ग के निर्माणकार्य के लिए लगभग 4 लाख रुपयों का खर्च किया गया है़  जिससे मार्ग का अतिक्रमण हटाने के बारें में अजय दुर्योधन मेश्राम को नोटीस भेजी गई.

    जिला परिषद मुख्य कार्यकारी अधिकारी के आदेशानुसार आखिरकार पुलिस बंदोबस्त में मार्ग का अतिक्रमण हटाया गया़  कारवाई दौरान सरपंच प्रिती किर्तीध्वज सवाई, ग्रामविकास अधिकारी मोरेश्वर रंगारी, पीएसआय मिश्रा, जमादार मून, महिला सिपाही, ग्रापं सदस्य रिना नितीन थुल, चंदु सुटे, सिद्धार्थ मेश्राम, श्याम मोहोड, नितीन कुंभारे, प्रमोद वाघमारे, भावेश ढाले, विजय लामसोंगे उपस्थित थे.