wardha zp

  • 204 अधिकारी, कर्मी पहुंचे लेट

वर्धा. जिला परिषद में कार्यरत अधिकारी व कर्मचारी समय पर न पहुंचने से आम जनता के कामकाज नहीं हो पा रहे थे़ इसकी गंभीरता से दखल लेते हुए मंगलवार, 15 दिसंबर को स्वयं जिप अध्यक्ष, उपाध्यक्ष व महिला सभापति ने प्रवेशद्वार पर खडे रहकर देरी से पहुंचनेवाले अधिकारी व कर्मियों को अनोखा स्वागत किया़ करीब 204 लेटलतिफो को पुष्पगुच्छ प्रदान कर हाथ जोडकर उनका स्वागत किया गया़ 

राज्य सरकार के नए नियमानुसार सरकारी दफ्तरो में कामकाज का समय सुबह 9.45 से शाम 6.15 कर दिया है़ परंतु अधिकारी व कर्मचारी अपनी आदतो से बाज नहीं आ रहे है़ कई बार तो अधिकारी पहले पहुंच जाते है, परंतु कर्मचारी एक से डेढ घंटा देरी से पहुंचते है़ परिणामवश काम के सिलसिले में आनेवाले नागरिक उनकी राह ताकते हुए वापिस लौट जाते है़ यह स्थिति जिप के विविध विभागों में देखने मिलती है़ इस संबंध में जनप्रतिनिधी व नागरिकों की शिकायतें भी प्राप्त हुई है़ इसे गंभीरता से लेते हुए मंगलवार को जिप की अध्यक्षा सरिता गाखरे ने लेटलतिफो को अनोखे तरीके से सबक सिखाने का निर्णय लिया.

अध्यक्ष सरिता गाखरे के साथ उपाध्यक्ष वैशाली येरावार, शिक्षा व स्वास्थ्य सभापति मृणाल माटे, महिला व बालकल्याण सभापति सरस्वती मडावी ने मंगलवार, 15 दिसंबर की सुबह 10 बजे मुख्य प्रवेशद्वार पर कब्जा जमाया़ इमारत के अन्य दो प्रवेश बंद कर दिये गए़ पश्चात एक एक कर देरी से पहुंचनेवाले कर्मचारियों के नाम रजिस्टर में लिये गए़ जबकि लेट आनेवाले वरिष्ठ अधिकारियों स्वयं अध्यक्ष ने पुष्पगुच्छ देते हुए हाथ जोडकर अनोखे तरीके से उनका स्वागत किया़ महिला अध्यक्ष व सभापति की इस गांधीगिरी से जिप अधिकारी व कर्मियों में खलबली मच गई़ करीब दो घंटे तक यह प्रक्रिया चली़ 

अस्वच्छता पर जताई नाराजगी

इसके बाद जिप अध्यक्ष, उपाध्यक्ष व सभापतियों ने सभी विभागो में पहुंच कर साफसफाई का जायजा लिया़ इस दौरान रंगी हुई दिवारे देखकर अध्यक्ष ने संबंधीतों को फटकार लगाते हुए नाराजगी व्यक्त की़ दफ्तर तथा इमारत परिसर में सफाई की ओर विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए़ 

वरिष्ठों का भी समावेश

मंगलवार को विविध विभाग के करीब 204 अधिकारी, कर्मचारी दफ्तर में देरी से पहुंचे़ इनमें अतिरिक्त मुकाअ, उपमुकाअ, वित्त विभाग के मुखिया, प्राथमिक के शिक्षाधिकारी सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारियों का समावेश था़ लेटलतिफो में ग्रामीण जलापूर्ति विभाग के 16, सामान्य प्रशासन के 13, बांधकाम विभाग के 17, पंचायत विभाग के 17, शिक्षा विभाग (प्राथमिक) के 31, माध्यमिक के 05, कृषि विभाग के 2, वित्त विभाग के 21, स्वास्थ्य विभाग के 34, भुजन सर्वेक्षण विकास यंत्रणा के 6, समाज कल्याण के 08, पशुसंवर्धन विभाग के 06, महिला व बालकल्याण विभाग के 09, जलापूर्ति व स्वच्छता विभाग के 05, लघूसिंचाई विभाग के 13 व निरंतर शिक्षा के 1 कुल 204 अधिकारी, कर्मचारियों का समावेश है़ 

फिलहाल दी गई सूचना – अध्यक्ष

नागरिक व जनप्रतिनिधियों की बढती शिकायतों को ध्यान में रखते हुए देरी से आनेवाले अधिकारी व कर्मियों का गांधीगिरी पध्दति से प्रवेशद्वार पर स्वागत किया गया़ फिलहाल सभी को उचित सूचना दी गई़ आगामी दिनों में ऐसा ही चलता रहा तो सख्त कदम उठाए जाएंगे. – सरिता गाखरे, अध्यक्ष, जिप, वर्धा