online education
Representational Pic

  • निगरानी पथक में फिर होंगे शिक्षक नियुक्त

कारंजा. वर्धा जिले में फिर एक बार संचारबंदी के संदर्भ में निर्णय लिया गया है. पिछले साल उक्त निगरानी पथक में जिले की सीमा से आनेवाले वाहनों की जानकारी रखने के लिये शिक्षकों को नियुक्त किया गया था. उसी प्रकार फिर से जिले की सीमा पर निगरानी पथक नियुक्त किया गया है. जिसमे शिक्षकों को नियुक्त किया गया है. जिससे छात्रों को ऑनलाइन पढ़ाकर उनका सिलैबस कैसे पूर्ण करें, यह प्रश्न शिक्षकों के सामने उपस्थित हुआ है.

शिक्षकों को बैठने की व्यवस्था नहीं 

जिले की सीमा पर तैनात रहनेवाले इस निगरानी पथक में शिक्षकों के लिये ग्रामपंचायत को बैठने तथा पाणी की व्यवस्था करने के आदेश दिये है. लेकिन इस ओर अनदेखी की गई, यह इसके पहले ही उजागर हुआ है.

वण्यप्राणियों का डर

कारंजा यह अतिदुर्गम होने के साथ ही यहां जंगल परिसर है. जिससे सीमा पर कार्यरत शिक्षकों को जंगली प्राणियों का भी डर बना रहता है. जिससे रात में ड्यूटी पर रहते समय संरक्षण की मांग की जा रही है. 

अन्यथा करेंगे आंदोलन 

नियुक्ति के पूर्व सीमा पर शिक्षकों के लिये बैठने तथा पानी की व्यवस्था की जाए ऐसी मांग की जा रही है. शिक्षकों को अतिरिक्त काम नहीं सौंपे जाए, अन्यथा तीव्र आंदोलन किया जाएगा, ऐसी चेतावनी महाराष्ट्र राज्य प्राथमिक शिक्षक परिषद के कार्यवाह अजय भोयर ने दी है.