Rain in Wardha, Crop Loss

    वर्धा. मौसम विभाग ने बेमौसम बारिश का अनुमान जताया था. इसके तहत वर्धा शहर सहित जिले के अनेक क्षेत्र में बिजली की गरज के साथ बेमौसम बारिश ने दस्तक दी. हवा व बिजली की कड़कड़ाहट के चलते बिजली गुल हो गई. करीब एक से डेढ़ घंटे तक बिजली की आंखमिचौली चलती रही. बारिश के कारण खेतों की खड़ी फसल व कटाई कर रखी फसल का नुकसान होने की जानकारी है. वर्धा शहर में रात 8 बजे मौसम में बदलाव होकर हवाएं चलने लगी.

    इस दौरान बिजली की कड़कड़ाहट के साथ बारिश शुरू हुई. रात भर बादल गरजते रहे. साथ ही रूक-रूक कर बारिश होती रही. वर्धा शहर व आस पास के इलाकों के साथ सिंदी रेलवे, कारंजा घाड़गे, पुलगांव, आष्टी, विरुल आकाजी व अन्य क्षेत्र में भी बारिश की खबर है. बारिश के कारण रबी की फसलें प्रभावित हुई है. फिलहाल अनेकों के खेत में गेहूं खड़ा है. किसी ने कटाई कर ढेर बनाकर रखा है. परंतु बेमौसम बारिश व आंधी के चलते गेहूं, चना भीगने की जानकारी है.

    बेमौसम बारिश से फसलों का नुकसान

    मौसम विभाग ने 18 से 22 मार्च तक ओलावृष्टि के साथ बारिश का अनुमान जताया था, जो सही साबित हुआ. शुक्रवार की रात परिसर में झमाझम बारिश हुई, जिससे फसलों का नुकसान होने से किसानों की चिंता बढ़ गई है. फिलहाल खेती में कटाई कर रखी हुई फसल है. बारिश के अनुमान के चलते किसानों ने तीरपाल से फसलों को ढक दिया था. कई किसान आनन-फानन में थ्रेशर मशीन से चना, गेहूं निकालकर सुरक्षित रखने में सफल हो गए. कई किसानों के खेत में खड़ी फसल बेमौसम बारिश से गीली हो गई. खेतों में खड़ी फसल सो गई.

    बारिश में गेहूं भिग जाने से उसकी चमक खत्म हो जाती है. क्वालिटी कमजोर हो जाती है. सोये गेहूं की कटाई में मिट्टी होने से दाना कमजोर रहने से उत्पादन तथा क्वालीटी की मार खाने संभावनाएं देखते हुए नुकसान आका जा रहा है. शुक्रवार की रात 11बजे बिजली की कड़कड़ाहट के साथ बारिश शुरू हुई, जो सुबह 3 बजे तक रूक-रूककर होती रही. इससे खेतों में खड़ी फसल, सब्जियों का नुकसान हो गया और दो दिन तक बारिश की संभावना से किसानों में दहशत बनी हुई है.

    पुलगांव में गरज के साथ बरसे मेघ

    गत रात्रि शहर व शहर के आस पास देहातों में बड़े ही जोर से मेघ गजरने के साथ झमाझम बारिश हुई, जो करीब 2 घंटे तक चली. बारिश के चलते जनजीवन प्रभावित हो गया. बारिश के दौरान एक घंटे तक बिजली आपूर्ति ठप रही. पश्चात बिजली की आंखमिचौली चलती रही. आसपास के किसानों का गेहूं काटकर रखा होने के कारण नुकसान नहीं हुआ. खड़ी फसल का नुकसान होने का अनुमान है. आंधी के कारण कुछ खेत में गेहूं की फसल गिरने से नुकसान की जानकारी है. यहां तक कि बिजली के खंभों से अंगार निकलती दिखायी दी. 

    कारंजा में दूसरे दिन भी बारिश

    मौसम विभाग के अनुमान के तहत गुरुवार की सुबह तथा रात में क्षेत्र में तेज बारिश हुई. इस क्रम में शुक्रवार की रात 9 बजे के दरमियान बारिश ने फिर दस्तक दी. तेज हवाएं, बिजली की कड़कड़ाहट के चलते नागरिकों में घबराहट देखी गई. बिजली के डर से लोगों ने घर के टीवी, फ्रिज कनेक्शन बंद कर दिए. निरंतर दो दिनों से हो रही बारिश के कारण खेत में कटाई कर रखा गेहूं खराब होने का डर किसानों को सता रहा है. बारिश के चलते संतरा व्यापारियों ने भी बगीचे की तरह मुंह फेर लिया है.

    आष्टी में हुई बूंदाबांदी

    शुक्रवार की रात आष्टी क्षेत्र में भी बिजली की कड़कड़ाहट के साथ हल्की बूंदाबांदी होती रही. हल्की बूंदाबांदी के चलते किसी प्रकार के फसलों को नुकसान की खबर नहीं है. 20 मार्च को बादल हटने के कारण साफ वातावरण रहा.

    विरुल परिसर में झमाझम 

    परिसर के विरुल, रसूलाबाद, सोरटा में बिजली की कड़कड़ाहट के साथ झमाझम बारिश हुई. शुक्रवार को सुबह से ही बदरीला मौसम बना रहा. रात 8 बजे से बिजली की कड़कड़ाहट के साथ तेज बारिश शुरू हुई. बारिश के चलते वातावरण में नमी छायी रही. कुछ समय तक बिजली आपूर्ति भी खंडित रही.