अमरावती-नागपुर मेट्रो से होगा विदर्भ का विकास

आर्वी. विदर्भ के विकास में अमरावती-नागपुर मेट्रो ट्रेन मिल का पत्थर साबित हो सकती है. हाल ही में गृहमंत्री अनिल देशमुख दूसरी फेज की जो सूची भेजी इसमें ट्रेन का कोई उल्लेख नही है. जबकि, यह मेट्रो अमरावती-तिवसा-गुरुकूंज, तलेगांव, कारंजा, कोंढाली, नागपुर मध्य भारत के पूर्व-पश्चिम के दो आयुक्तालय जोडनेवाली तथा विदर्भ के विकास में महत्वपूर्ण योगदान देनेवाली साबित हो सकती है.

पिछले दो फरवरी 20 को नागपुर में हुई एक मिटिंग में रेलवे तथा व्यापारियों के बिच चर्चा हुई. इस मेट्रो पर अमरावती ग्रामीण कांग्रेस कमेटी के पूर्व जिलाध्यक्ष प्रल्हाद ठाकरे ने आवाज उठाई तथा इसे जबरदस्त समर्थन मिला है. नागपुर-वाडी-कोंढाली, कारंजा घाडगे, तलेगांव श्याव, आष्टी तहसील तथा आर्वी तहसील को जोडनेवाला बडा शहर है. तिवसा, गुरुकुंज मोझरी, नांदगांव पठ 5 स्टार एमआईडीसी, वीसीलैंड मार्केट, रहाटगांव, गाडगेनगर, इरवीन चौक से अमरावती मुख्य स्टेशन का समावेश किया जा सकता है.

इस मार्ग पर सैंकडो गांव आते है, जिन्हे आवागमन हेतु एकमात्र बसों पर निर्भर रहना पडता है. रेलवे की कोई सुविधा नही है. इस मार्ग पर काटोल, आर्वी, तिवसा, अमरावती, वरुड, विधानसभा क्षेत्र के अधिकांश गांवो को फायदा होना सुनिश्चित है. औद्योगिक दृष्टि से आर्वी विधानसभा क्षेत्र जो कोंढाली से तिवसा तक आता है, जिसमें कारंजा एमआईडीसी 500 एकड की है. आर्वी, तलेगांव श्यापं प्रस्तावित है. तिवसा तथा नांदगांव पेठ 5 स्टार एमआईडीसी है. जहा रेमंड के कपडो का कारखाना है. रेलवे की सुविधा न होने से इस क्षेत्र में कोई बडा उद्योग नही आ पाता. फलस्वरुप सुशिक्षित बेरोजगारों की फौज क्षेत्र में तैयार हो रही है. 

कम खर्च में ज्यादा लाभ

नागपुर से कोंढाली, कारंजा, तलेगांव श्याप, गुरुकुंज मोझरी, नांदगांव एमआईडीसी, बीझीलैंड होने वाले अमरावती जाने हेतु इस मेट्रो को जगह की आवश्यकता नही है. नैशनल हाइवे नंब 6 के आस-पास जगह ही जगह है. इससे सटे यह मेट्रो सीधे अमरावती तक पहुंच सकती है. इसे नागपुर, वर्धा, पुलगांव, बडनेरा होते हुए अमरावती की बजाए नागपुर, कोंढाली, कारंजा, तिवसा, गुरुकुंज मोझरी, अमरावती तक लंबाई आधी है. आने-जाने में समय की भी बचत तथा आर्थिक फायदा होगा. नागपुर से अमरावती का यह सफर मात्र डेढ घंटे में पूर्ण होगा. इसकी लंबाई 150 किमी है. इस मार्ग पर रेलवे की सुविधा न होने से कारंजा, कोंढाली, खरांगणा, वाढोणा, आर्वी तथा तलेगांव श्यापं के चारो ओर 25 किमी के भीतर आनेवाले सैंकडो गांव के व्यापारी, नागरिकों को आवागमन में सुविधा उपलब्ध होगी. विदर्भ विकास को भी गति मिलेगी.

जनप्रतिनिधि बुलंद करें आवाज

नागपुर-कोंढाली-अमरावती मेट्रो का सबसे अधिक लाभ अमरावती जिला, आर्वी विधानसभा क्षेत्र तथा विदर्भ के विकास में होगा. फलस्वरुप मंत्री यशोमति ठाकुर विदर्भ विकास हेतु विरोधी पक्ष नेता देवेन्द्र फडणवीस, केन्द्रीय मंत्री नितीन गडकरी, सांसद तडस, कोंढाली क्षेत्र काटोल से चुनकर आये गृहमंत्री अनिल देशमुख, विधायक दादाराव केचे, पालकमंत्री सुनील केदार, पूर्व विधायक अमर काले, कांग्रेस के नेताओं को इस ओर ध्यान देना चाहिए. मेट्रो संवाद में मेट्रो प्रबंधक डा़ ब्रजेश दीक्षित, एड नितान गांधी, रेलवे के अतुल कोटेजा, वसंत पालीवाल आदी उपस्थित थे.