aarvi

  • ऑनलाइन सभा का विरोध कर नदारद रहे 19 पार्षद, आर्वी नप में सत्ताधारियों के बिच घमासान तेज

आर्वी. आर्वी नगर परिषद में सत्ताधारियों के बिच चल रहा घमासान ओर भी तेज हो गया है. परिणाम स्वरुप मंगलवार को आयोजित ऑनलाइन आमसभा में 22 में से मात्र 4 पार्षदों ने हाजरी लगाई, वही 19 पार्षदों ने हिस्सा ही नही लिया. जिससे कोरम के अभाव में सभा रद्द करनी पडी.

 आर्वी नगर परिषद इन दिनों विवादों से घिर गई है. सत्ताधारी नगराध्यक्ष व पार्षदों के बिच गत कुछ दिनों से तनाव का माहौल है. गत कुछ दिनों पूर्व स्वच्छता के मुद्दे को लेकर सत्ताधारी पार्टी के 10 पार्षदों ने ही नगराध्यक्ष की कुर्सी पर चप्पल की माला चढाई थी. जिसके बाद वरिष्ठों ने इस बात को गंभीरता से लेते हुए पार्षद सहित नगराध्यक्ष को भी आडे हाथ लिया था. साथ ही नोटिस भी भेजा गया था.

यहा तक कि, शहर अध्यक्ष पद तक छोडना पडा. परंतु इन सब का कुछ भी असर नही हुआ. हालाकि अब यही मुद्दा प्रतिष्ठा का बनाते हुए पार्षद व नगराध्यक्ष आमने-सामने आ गए है. नगराध्यक्ष द्वारा 15 सितम्बर को आयोजित आमसभा ऑनलाइन लेने के कारण 19 पार्षद आमसभा में शामिल ही नही हुए. फलस्वरुप 22 में मात्र 4 पार्षद शामिल होने से कोरम के अभाव में सभा तहकूब करनी पडी. आर्वी नगर परिषद की बडी इमारत होकर भी ऑनलाइन सभा लेने की जरुरत नही है. कोरोना संबंधित विविध विषयों पर सभा हुई, पालकमंत्री की भी सभा नप की ईमारत में हुई, फिर आमसभा ही ऑनलाइन क्यो? ऐसा सवाल पार्षदों ने उपस्थित किया. आर्वी नप में चल रहे अंतर्गत विवाद के चलते चर्चाओं का माहौल गर्माया हुआ है.