wardha stadium

  • प्रैक्टीस के बदले टीमों में बढ रहा विवाद, नही हो रहा नियमों का पालन, प्रशासन की अनदेखी

वर्धा. गत तीन दिनों से जिला क्रीडा संकुल पर सैंकडो की संख्या में लोगों की भीड बढ गई है. यहा नियमित रुप से व्यायाम व खेलने के लिए आनेवालों के साथ अब पुलिस भर्ती तथा अन्य प्रैक्टिक करनेवालों का तांता लग गया है. फलस्वरुप अब प्रैक्टिक कम व विवाद ही ज्यादा दिखाई देते है. वही दूसरी ओर नियमों का पालन नही होने से कोरोना का संक्रमण फैलने का खतरा ओर भी बढ गया है. जिससे समय रहते प्रशासन को ध्यान देने की जरुरत है.

wardha

जिले में कोरोना का संक्रमण तेज गति से बढ रहा है. ऐसे में नियमों का पालन करना अनिवार्य है. परंतु इसके बावजूद नागरिकों की बेफिक्री कुछ ओर ही बया कर रही है. क्रीडा संकुल पहले से ही सभी तरह के खेलों के लिए पसंदीदा जगह रही है. लॉकडाऊन से पहले तक यहा प्रतिदिन सुबह व शाम को सैंकडो लोग प्रैक्टीस करने आते थे. लेकिन कोरोना संक्रमण बढने से लॉकडाऊन किया गया. साथ ही सार्वजनिक रुप से सभी कार्यक्रम, प्रैक्टीस पर भी पाबंदी लगाई गई. अब अनलॉक प्रक्रिया के दौरान धिरे-धिरे सबकुछ सामान्य करने का प्रयास हो रहा है. हाल ही में राज्य सरकार ने भी पुलिस भर्ती की घोषणा की है. जिस कारण अब क्रीडा संकुल में प्रैक्टीस करनेवालों का गत तीन दिनों से तांता लग गया है. यहा शुरुआत से ही विविध खेलों की प्रैक्टीस करनेवाले तथा नियमित रुप से प्रतिदिन मॉर्निंग वॉक के लिए लोग आते थे. चुनिंदा लोग रहने से सोशल डिस्टंस सहित अन्य नियमों का पालन होता था, तथा सभी सही तरह से अपना काम करते थे. परंतु अब स्टेडियम पर बढी भीड से प्रैक्टीस कम व विवाद ही बढ गए है. यहा मामूली बात को लेकर आपस में झगडे हो रहा है. प्रैक्टीस करते समय एक-दूसरे को हाथ लगने, धक्का लगने की बात से भी विवाद किया जा रहा है. जिससे यह ग्राऊंड प्रैक्टीस के लिए कम तथा विवादों के लिए अधिक प्रसिद्ध होने का डर बढ गया है. 

क्रीडा संकुल प्रेमी युगलों का ठिकाणा

गत पांच माह से लॉकडाऊन के चलते घरों में कैद हुए प्रेमी युगलों के लिए भी क्रीडा संकुल सुरक्षित जगह साबित हो रही है. यहा प्रतिदिन प्रैक्टिक के बहाने अनेक युवक-युवती एक दूसरे से मिलने आते है. जिससे यहा आनेवाले अन्य लोगों को असहज महसूस होना पड रहा है. लेकिन प्रेमी युगल बेफिक्र होकर अपनी हदे पार कर रहे है.

नही हो रहा नियमों का पालन

कोरोना के बढते संक्रमण को देखते हुए भीड-भाड वाली जगह से बचना आवश्यक है. अगर जाना भी पडता है तो नियमों का पालन करना अनिवार्य है. परंतु क्रीडा संकुल पर नियमों को ताक पर रखकर प्रैक्टीस की जा रही है. अधिकतर लोक ना मास्क पहनते है ओर ना ही सोशल डिस्टंस का पालन करते है. अनेक छोटे-छोटे गुट यहा अपनी टीम को लेकर पुलिस भर्ती की प्रैक्टीस के लिए आते है, लेकिन सुरक्षा का ध्यान नही रखा जा रहा है. जिससे अनेक सवाल उपस्थित हो रहे है.

प्रशासन की अनदेखी

ग्राऊंड पर होनेवाली भीड को नियंत्रित करना नगर परिषद प्रशासन की जिम्मेदारी है. लेकिन कोई भी इस ओर ध्यान नही दे रहा है. फलस्वरुप लोग बेफिक्र होकर मनमानी कर रहे है. इस ओर ध्यान देकर समय पर उपाययोजना करने की जरुरत है.