wardha

  • शंकरप्रसाद अग्निहोत्री ने केन्द्र व राज्य शासन से की मांग, पत्र परिषद में दी जानकारी

वर्धा. महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती उपलक्ष्य में वर्धा में गांधी जीवन दर्शन लेझर साऊंड शो के माध्यम से दिखाने की व्यवस्था करें, ऐसी मांग जय महाकाली शिक्षण संस्था के अध्यक्ष शंकरप्रसाद अग्निहोत्री ने केन्द्र व राज्य सरकार की ओर करने की जानकारी बुधवार को आयोजित पत्र परिषद में दी.

अग्निहोत्री ने आगे कहा कि, महात्मा गांधी की यह 150 वीं जयंती सारा विश्व मना रहा है. सेवाग्राम गांधीजी की कर्मभूमि रही है. जहा देश-विदेश से हजारों लोग सेवाग्राम आश्रम तथा वर्धा परिसर देखने आते है. 20 वीं सदी के महामानव महात्मा गांधी के जीवन कार्य के जीवन की झलक दिखाई जाए, उनके जीवन से जनता को रुबरु होने के लिए लेजर शो की व्यवस्था हो, जिससे गांधी जीवन को प्रत्यक्ष रुप से दर्शक अनुभव कर सकें, जान सके उसकी अनुभूति ले सके.

गांधीजी का आश्रम पवित्र धर्मस्थली है. जैसे चार धाम तीर्थ है, वर्धा-सेवाग्राम पांचना एक सामाजिक धाम तथा राष्ट्रीय तीर्थ माना जाता है. ऐसे में 150 वीं जयंती उपलक्ष्य में सेवाग्राम आश्रम को विश्व संदेश स्थल बनाए. सेवाग्राम विश्व की मानवीय सामाजिक समस्याओं को अहिंसात्मक शांति के मार्ग से हल करने का केन्द्र बनें, इस लिए एक जागतिक परिषद की स्थापना हो जो विश्व की समस्याओं पर विचार करके हल निकाले. इस लिए आवश्यक सुविधाओं से युक्त आंतरराष्ट्रीय स्तर के परिसर का निर्माण हो, ऐसा उन्होने कहा. पत्र परिषद में अनिल नरेडी, पियुष पटेल, शशिकांत बागडदे, डा़ धर्मेंद्र मुंधडा, डा़ राजकिशोर तुगनायत, प्रा. प्रफुल दाते, जनसंपर्क अधिकारी प्रमोद गिरडकर, अभिजीत रघुवंशी उपस्थित थे.

वर्धा बने अंतरराष्ट्रीय पर्यटन स्थल

वर्धा-सेवाग्राम को एक पर्यटन स्थल के रुप में विकसित करना चाहिए. सेवाग्राम, पवनार-राष्ट्रभाषा प्रचार समिति, मगन संग्रहालय, हिंदी विवि, बोर अरण्य, महाकाली मंदिर, सिद्धीविनायक मंदिर, विश्वशांति स्तूप, गीताई मंदिर, लक्ष्मीनारायण मंदिर ऐसे अनेक प्रसिद्ध स्थल वर्धा में है. इन सब को जोडकर पर्यटन का एक समयबद्ध कार्यक्रम बनाने से वर्धा आनेवाले पर्यटकों को सुविधा के साथ ही गांधी, विनोबा के विचारों की अनुभूति होगी ओर प्ररेणा मिलेगी. इस कारण हम मांग करते है कि, 150 वीं जसंती पर सकारात्मक निर्णय लेने की मांग अग्निहोत्री ने की.