Now electricity bill and freight filling crisis, small shopkeepers increased

वर्धा. दिन ब दिन कोरोना का कहर बढता ही जा रहा है. शहरी भागों के साथ अब ग्रामीण में भी कोरोना संक्रमण बढ गया है. गत 15 दिनों से मुख्यत: बाजार क्षेत्र इसका शिकार हो गया है. विगत 15 दिनों में 150 से अधिक व्यापारी भाई, उनके परिवार के सदस्य व कर्मचारी बाधित हुए है. साथ ही 5 लोगों की मृत्यू भी हुई है. जिससे व्यापारियों में दहशत छाई है. अत: कोरोना की चेन तोडने हेतू स्वयं की सुरक्षा के साथ-साथ आम जनता की भी सुरक्षा के लिए चार दिन व्यापार बंद रखना आवश्यक है. जिससे अधिकांश व्यापारी संगठन के पदाधिकारियों ने आम सहमित से 18 से 21 सितम्बर तक पूर्ण व्यापार बंद रखने का निर्णय वर्धा कन्झुमर अॅन्ड डिस्ट्रीब्यूटर एसोसिएशन, वर्धा पान मसाला संघ, वर्धा टोबैकों एसो, वर्धा जिला पानटपरी एसोसिएशन, वर्धा इलेक्ट्रीक एन्ड अपलायसेंस, बर्तन विक्रेता संघ, व्यापारी संघ, सलून, ब्यूटी पार्लर एसोसिएशन, जिला जलसेवा एसोसिएशन, कपडा व्यापारी संघ, वर्धा इलेक्ट्रीक एसोसिएशन, सराफा एसोसिएशन, वर्धा रिटेल किराणा एसोसिएशन, वर्धा रेडिमेड-होजियरी एसोसिएशन, आईल अॅन्ड ग्रेनमर्चंट एसोसिएशन, फर्निचर विक्रेता संघ, फूटवेअर विक्रेता संघ, वर्धा मर्चंट एसोसिएशन, हार्डवेअर विक्रेता संघ, फूटपाथ विक्रेता संघ, स्टेशनरी एसोसिएशन, कटलरी एसोसिएशन, वर्धा खाद्यपेय विक्रेता संघ ने समर्थन दिया है.