gangapur-dam-new

    वाशिम. गत वर्ष पर्याप्त वर्षा होने के कारण जिले के सभी जलाशयों में पर्याप्त जलसंग्रह हुआ था़  इन दिनो सूरज की तपन के साथ जल के अधिक उपयोग होने के बावजूद भी जिले के जलाशयों में 29.84 प्रतिशत जलभंडारण शेष है़  जो की बरसात आने तक के लिए पर्याप्त रहने का अनुमान बताया जा रहा है़  

    प्राप्त जानकारी के अनुसार जिले के तीन एकबुर्जी, सोनल व अडान इन तीन मध्यम जलाशयों में अभी 39.74 प्रतिशत जलभंडारण है़  इन में से वाशिम तहसील के एकबुर्जी मध्यम जलाशय में अभी 29.32 प्रतिशत, मालेगांव तहसील के सोनल मध्यम जलाशय में 33.22 प्रतिशत तथा कांरजा के अडान मध्यम जलाशय में 43.34 प्रतिशत जलसंग्रह है़  वाशिम तहसील के 21 लघु जलाशय में इन दिनों 17.89 प्रतिशत जलभंडारण है.

    मालेगांव तहसील के कुल 23 लघु जलाशयों में 24.54 प्रतिशत, रिसोड तहसील के 19 लघु जलाशयों में 28.05 प्रतिशत, मंगरुलपीर के 9 लघु जलाशयो में 20.91 प्रतिशत, मानोरा तहसील के 5 लघु जलाशयों में 41.41 प्रतिशत तथा कारंजा तहसील के 11 लघु जलाशयों में 41.20 प्रतिशत जलभंडारण है़.

    इस प्रकार से जिले के 88 लघु जलाशयों में 26.77 प्रतिशत जलभंडारण तथा तीन मध्यम जलाशयों में 39.74 प्रतिशत इस प्रकार से जिले के 91 जलाशयों में कुल 29.84 प्रतिशत जलभंडारण है़  विगत कुछ वर्षो की तुलना में इस वर्ष जिले के जलाशयों में समाधानकारक जलभंडारण होने का बताया जा रहा है़