कृषि विभाग गुलाब, मोगरा और कंद लगाएगा – अब फूलों की खेती रोगायो के तहत फलने-फूलने लगेगी

वाशिम. राज्य के कृषि विभाग ने राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के अंतर्गत किसानों के खेत में फूल फसल लगाने का उपक्रम हाथ में लिया गया़  इसके अंतर्गत लक्ष्य निश्चित किया गया है़  जिला कृषि विभाग ने यह मुहिम चलाने की तैयारी कर ली है़  इस के तहत गुलाब, मोगरा, कंद (निशिगंध) इन फूल पेड़ों को लगाने के संदर्भ में क्षेत्रीय स्तर से बार बार मांग हो रही है़.

इस पृष्ठभूमि पर सरकार के रोजगार गारंटी योजना विभाग ने 1 अक्टूबर को निकाले पत्र के अनुसार मनरेगा आयुक्त ने 5 अक्टूबर व 11 नवंबर को संबंधित स्तर पर पत्रव्यवहार करने के बाद राज्य में रोगायो के अंतर्गत फूल फसल का रोपण करने के बजट को मंजूरी दी गई है़  इस कार्यक्रम की मार्गदर्शक सूचना तैयार की गई है़.

इसके अनुसार फलोत्पादन संचालक द्वारा व्यक्तिगत लाभार्थी के खेतों पर गुलाब, मोगरा, कंद इन फसलों की खेती करने सहित फूल फसल के आर्थिक माफदंड, मजदूरी दर, प्रति मनुष्य दिन 248 रुपये इस मुताबिक तैयार करके नरेगा आयुक्त नागपुर की ओर से प्रस्ताव को मंजूरी दी गई है़  इसके अनुसार वाशिम जिले में निकष के अनुसार आवेदन आमंत्रित करके यह प्रक्रिया चलाने की तैयारी की गई है़ 

रोगायो के तहत चलाए जानेवाले फूल खेती कार्यक्रम का लाभ अनुसूचित जाति, जमाति घुंमतू विभक्त जमाति, गरीबी रेखा के नीचे के परिवार, महिला प्रधान परिवार, शारीरिक विकलांग प्रधान परिवार, भूसुधार योजना के लाभार्थी, इंदिरा आवास योजना के लाभार्थी, अनुसूचित जमाति व अन्य परंपरागत वन निवासी अधिनियम 2006 के अनुसार पात्र व्यक्तियों को लाभ मिलेगा़ 

प्रति हेक्टेयर 2 लाख रुपये अनुदान

फूलों की खेती योजना के अंतर्गत निश्चित किए गए प्रवर्ग के पात्र लाभार्थियों को फूल फसल के लिए प्रति हेक्टेयर 2 लाख रुपयों का अनुदान दिया जानेवाला है़  इसके लिए इच्छुक लाभार्थियों के नाम पर खेती रहना आवश्यक होकर यह जमीन वंश विधान के नीचे आ रही है और सात बारह पर इस वंश का नाम होने पर योजना वंश के सम्मती से चलाई जाएगी.

कृषि आयुक्त के निर्देश के अनुसार अगले मौसम में फूल फसल की खेती करने के लिए 1 जून से 30 नवंबर के दौरान निश्चित प्रवर्ग के लाभार्थी से आवेदन आमंत्रित किए जाकर इस योजना के अंतर्गत किसानों के खेतों में गुलाब, मोगरा, कंद इन फूलों की खेती की जानेवाली है़  यह जानकारी जिला अधीक्षक कृषि अधिकारी शंकर तोटावार ने दी है़.