Farmers
Representational pic

    वाशिम. खरीफ मौसम में सोयाबीन फसल की बुआई करते समय किसानों ने सावधानी लेना आवश्यक है़  जब तक जिले में 80 से 100 मि.मी़ वर्षा नही होगी तब तक बुआई नही करने का आहवान जिला अधीक्षक कृषि अधिकारी शंकर तोटावार ने किया है. कृषि विद्यापीठ के निर्देश नुसार बीज अंकुरण के लिए जमीन में पर्याप्त ओस रहना आवश्यक है.

    इस के लिए औसतन 80 से 100 मि.मी. वर्षा होना आवश्यक है़  इस से कम बारिश होने पर किसानों ने बुआई की तो जमीन में रहनेवाले गर्मी से बीज अतिशय कम प्रमाण में अंकुरित होने की संभावना रहती है़  किसानों पर दूसरी बार बुआई की नौबत आ सकती है़  इसलिए किसानों ने बुआई के लिए जल्दबाजी न करते हुए पर्याप्त मात्रा में बारिश होने पर ही बुआई करें.

    बीज की अंकुरण क्षमता की जांच करें 

    किसानों ने बुआई करते समय बीज की अंकुरण क्षमता की जांच करना व बीज प्रक्रिया करना अत्यंत आवश्यक है. पारंपारिक बुआई पद्धति की जगह अब आधुनिक बुआई पद्धति का अवलंब करें. जैसे बुआई करते समय बी.बी.एफ.यंत्रो का उपयोग करें. जिससे बीज योग्य गहराई पर और दुरी पर गिरते है़  जिससे एकसमान अंकुरित होते है. फसलों को बारिश का पानी मिलता है. यह जानकारी जिला अधीक्षक कृषि अधिकारी शंकर तोटावार ने दी है़