crime

  • रिश्तेदार निकले हत्यारे, 2 आरोपी गिरफ्तार
  • 9 माह बाद मिली पुलिस को सफलता

वाशिम. स्थानीय लाखाला परिसर निवासी वैष्णवी जाधव (15) का 9 माह पूर्व अपहरण कर उसकी हत्या करने का मामला उजागर करने में पुलिस को सफलता मिली है. रिश्तेदारों ने ही बालिका की हत्या की है. पुलिस ने दो आरोपियों को कब्जे में लिया है. यह जानकारी जिला पुलिस अधीक्षक वसंत परदेशी ने पत्र परिषद में दी. उन्होंने बताया कि यह प्रकरण काफी उलझा हुआ था. 20 जनवरी 2020 को मृत बालिका के फरियादी पिता संदीप जाधव निवासी ग्राम वसारी, वर्तमान में लाखाला परिसर निवासी ने शिकायत दर्ज की थी कि उनका भाई विजय जाधव, पत्नी आशा के साथ उपचार के लिए गुजरात गए थे.

9वीं कक्षा में पढ़नेवाली बालिका वैष्णवी 19 जनवरी की शाम के समय घर पर नहीं थी. पूछताछ करने पर उसे पता चला कि बालिका सहेली के यहां जन्मदिन कार्यक्रम में गयी है. वापिस न लौटने पर थाने में शिकायत दी गयी. पुलिस ने जांच शुरु की. 2 पथक जालना, औरंगाबाद, नासिक, पुणे, हैदराबाद, युपी, एमपी में भेजे गये. लेकिन बालिका नहीं मिली. बालिका का मोबाईल बंद रहने से कोई सुराग नहीं मिल सका. पुलिस ने प्रकरण में संदिग्ध माधुरी गोटे (22) निवासी ग्राम अमानी, तहसील मालेगांव पर अपना ध्यान केंद्रित किया. जांच पड़ताल में महिला आरोपी ने कबूल किया कि वह और उसका पति बद्रीनारायण गोटे ने मिलकर उनके रिश्ते की वैष्णवी को घुमाने ले जाने के बहाने अपहरण किया.

कार में बालिका को बेहोशी की दवा पिलाई और मालेगांव-अकोला मार्ग पर रिधोरा ग्राम के समीप हनुमान मंदिर के पास गला दबाकर उसकी हत्या की और उसे वहीं जला दिया. पुलिस ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर बालिका के हड्डियों के अवशेष लिये. इस प्रकरण में और किसी के शामिल होने के संदर्भ में पुलिस द्वारा जांच पड़ताल की जा रही है. पत्र परिषद में पुलिस अधीक्षक वसंत परदेशी, अतिरिक्त जिला पुलिस अधीक्षक विजयकुमार, उप विभागीय पुलिस अधिकारी तथा जांच अधिकारी डा़ पवन बंसोड, पुलिस निरिक्षक शिवा ठाकरे उपस्थित थे़