तुफानी हवा और ओलावृष्टि से सैंकड़ों तोते की मौत, स्थानीय हिंगोली नाका परिसर की घटना

    वाशिम. शहर के साथ परिसर में हुई बैमौसम बारिश व ओलावृष्टि से अनेकों का नुकसान हुआ है़  इसी दौरान 19 मार्च को रात में पेड़ों पर रहनेवाले सैंकड़ों मूक पक्षियों के लिए भी यमदूत का संकट बना़  अचानक आई तुफानी हवा और ओलावृ़ष्टि से पेड़ों पर रहनेवाले सैंकड़ों तोते कुछ ही क्षणों में बलि चढ़े.

    आसमान से अत्यंत तेज गति से बरसनेवाले ओले की मार इन पक्षियों को ऐसा लगा कि अनेक तोते जख्मी होकर सड़क पर गिर गए. इस दौरान कुछ तोतो की जगह पर ही मौत हो गई़ तो कुछ आवागमन करनेवाले वाहनों के नीचे दबकर मर गए़  शहर के स्थानीय हिंगोली नाका परिसर में हुई इस घटना से अनेकों ने चिंता व्यक्त की़  प्रतिदिन शाम के समय पेड़ पर अपनी मधुर आवाज करते वातावरण में एक प्रकार से संगीत भरनेवाले सैंकड़ों निरपराध तोतो की आवाज निसर्ग के रौद्र रुप से हमेशा के लिए छीन ली़.

    जिले में सभी ओर हुई बेमौसम बारिश और ओलाव़ृष्टि से आतंक मचाने से एक ओर गरीबों के घर की टिनपत्रे उड़ गई, अनेकों के घर में पानी जमा हुआ, तो दूसरी ओर इन मूक पक्षियों की जान चली गई़.