Home Quarantine

    • जिलाधिकारी षण्मुगराजन एस.

    वाशिम. कोरोना वायरस के संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए संक्रमित मरीजों का संस्थात्मक विलगीकरण करना आवश्यक है़  इस के लिए गांव में ही विलगीकरण कक्ष की स्थापना करके बिना लक्षण रहनेवाले कोरोना संक्रमित को उस स्थान पर विलगीकरण में रखा जाए़  इस विलगीकरण कक्ष में सभी आवश्यक सुविधा उपलब्ध कराके देने के निर्देश जिलाधिकारी षण्मुगराजन एस. ने दिए है़  दूरदृश्य प्रणाली द्वारा आयोजित तहसीलस्तरीय अधिकारियों की जायजा बैठक में वे बोल रहे थे़.

    इस अवसर पर जि.प. की मुख्य कार्यकारी अधिकारी वसुमना पंत, अपर जिलाधिकारी शहाजी पवार, निवासी उप जिलाधिकारी शैलेश हिंगे, उप जिलाधिकारी (राजस्व) सुनील विंचनकर, उप जिलाधिकारी संदीप महाजन, जिला स्वास्थ्य अधिकारी डा़ अविनाश आहेर, समाज कल्याण सहायक आयुक्त माया केदार, शिक्षणाधिकारी अंबादास मानकर आदि उपस्थित थे़ 

    इस अवसर पर जिलाधिकारी षण्मुगराजन एस. ने कहा कि अभी कोरोना संक्रमितों की संख्या कम हो रही है़  लेकिन यह संक्रमण फिर से नही बढ़ना इसके लिए प्रतिबंधात्मक उपाययोजना करना आवश्यक है. इस के अनुसार जिले के ग्रामीण भागों के कोरोना संक्रमितों के मरीजों के विलगीकरण गांवस्तर पर करने का निर्णय लिया गया है़.

    इन गावों की शालाए, समाज मंदिर अथवा बुनियादी सुविधा उपलब्ध रहनेवाले अन्य स्थानों पर विलगीकरण कक्ष स्थापिन करने की सूचना दी है़  इसके अनुसार सभी तहसीलस्तरीय अधिकारियों ने एकत्रित रुप से नियोजन करके गांवस्तर पर विलगीकरण कक्ष शुरू करने की कार्रवाई करे़  इस कक्ष में सभी आवश्यक सुविधा उपलब्ध रहना आवश्यक है़  

    पानी समस्या रहनेवाले गावों में उपाययोजना करें 

    जिले में कुछ गांवों में पानी की समस्या निर्माण होने की शिकायतें प्राप्त हो रही है़  इस संबंधि तहसीलदार, गट विकास अधिकारी ने ऐसी शिकायतों की दखल लेकर वहां की पानी समस्या दूर करने के लिए उपाययोजना करे़  ग्रामीण जलापूर्ति विभाग ने इस संबंधि सर्वेक्षण करके पानी समस्या निर्माण होने की संभावना रहनेवाले गांवों की जानकारी संबंधित तहलीसस्तरीय प्रणाली को उपलब्ध कराके देने की  सूचना दी है.