बारिश व ओलावृ़ष्टि से 4,880 हेक्टेयर पर फसलों का नुकसान, प्रशासन की प्राथमिक रिपोर्ट

    • सर्वाधिक नुकसान वाशिम तहसील में 

    वाशिम. जिले में 19 मार्च की रात में तेज हवा, बारिश व ओलावृष्टि से फसलों का भारी नुकसान हुआ है़  इस प्राकृतिक संकट से 4,880 हेक्टेयर क्षेत्र के गेहूं, चना, मूंग, ज्वार, प्याज, पपीता आदि फसलों के साथ सब्जिया, फलबागों का नुकसान होने का प्राथमिक अनुमान प्रशासन ने बताया है़  इस में जिले के 6,697 किसानों का नुकसान होने का अनुमान होकर राजस्व व कृषि विभाग से सर्वेक्षण का काम हाथ में लिया गया है़  19 मार्च को आई प्राकृतिक आपदा से हुई.

    फसलों के नुकसान का जिले के 6 तहसीलदारों से प्राप्त जानकारी के अनुसार एकत्रित प्राथमिक रिपोर्ट तैयार करके उसे विभागीय आयुक्त (पुनर्वसन विभाग) की ओर भेजा गया है़  इस के अनुसार वाशिम तहसील के वाशिम, कोंडाला झामरे, नागठाणा, पार्डी आसरा, पार्डी टकमोर, अनसिंग इन राजस्व मंडल में 1,693 हेक्टेयर पर प्याज, सब्जियाँ, अनाज का नुकसान हुआ है़  इस मंडल के तहत आनेवाले गांवों में 2,123 किसान प्रभावित हुए है़.

    मालेगांव तहसील में किन्हीराजा, मुंगला, करंजी, चांडस व शिरपुर राजस्व मंडल में 1,932 हेक्टेयर पर गेहूं, चना, ज्वार, सब्जियाँ, तरबूज, पपीता, सोयाबीन इन फसलों का नुकसान हुआ है़  यहां पर 1,800 किसान नुकसान के चपेट में आ गए है़  रिसोड तहसील में केनवड, गोवर्धन राजस्व मंडल में 1,476 हेक्टेयर पर प्याज, पपीता, मूंग, सब्जियाँ आदि फसलो का नुकसान होकर 1,893 किसान नुकसान से प्रभावित हुए है़.

    मंगरुलपीर तहसील में आसेगांव राजस्व मंडल में 46 हेक्टेयर में गेहूं, चना, ज्वार, मूंग, प्याज, सब्जियाँ फसलों का नुकसान होकर यहां पर 96 किसान प्रभावित हुए है़  मानोरा तहसील में मानोरा, इंजोरी, कुपटा, शेंदुरजना, गिरोली, उमरी बु, राजस्व मंडल में 531 हेक्टेयर में  चना, गेहूं, ज्वार, सब्जियाँ फसलो का नुकसान होकर 865 किसानों का नुकसान हुआ है़  कारंजा तहसील में नुकसान का प्रमाण निरंक होने का नजर आ रहा है़  इस दौरान प्रशासन ने तत्काल सर्वेक्षण करके नुकसान भरपाई देने की मांग की जा रही है़