‘स्वच्छता ही सेवा’ नागरिकों ने सहयोग करना जरूरी

वाशिम. स्वच्छता के लिए केंद्र शासन के पेयजल व स्वच्छता मंत्रालय की ओर से देश भर में 15 सितबंर से 2 अक्टूबर 2018 तक ‘स्वच्छता ही सेवा’ यह विशेष अभियान चलाया है. इस अभियान में जिले के

वाशिम. स्वच्छता के लिए केंद्र शासन के पेयजल व स्वच्छता मंत्रालय की ओर से देश भर में 15 सितबंर से 2 अक्टूबर 2018 तक ‘स्वच्छता ही सेवा’ यह विशेष अभियान चलाया है. इस अभियान में जिले के नागरिकों ने सक्रिय सहयोग देने का आवाहन जिला परिषद अध्यक्षा सौ हर्षदा देशमुख ने किया है. वे जिला परिषद के सभागृह में ‘स्वच्छता ही सेवा’ इस अभियान की मशाल जलाकर जिलास्तरीय शुभारंभ अवसर पर बोल रही थी. इस अवसर पर मुख्यकार्यकारी अधिकारी दीपककुमार मीना, जिप के मुख्यलेखा व वित्त अधिकारी व्यंकट जोशी, पानी व स्वच्छता विभाग के उपकार्यकारी अधिकारी सुदाम इस्लापे, जिला स्वास्थ्य अधिकारी डा अविनाश आहेर, उपमुख्यकार्यकारी अधिकारी सुनील बायस्कर,निर्माण विभाग के कार्यकारी अधिकारी गहेरवार, निलेश राठोड आदि उपस्थित थे़ देशमुख ने कहा कि, ग्रामीण भागों के नागरिकों स्वास्थ्य अच्छा रखने के लिए केंद्र व राज्य शासन की ओर से विविध अभियान चलाए जाते है.

जनसहयोग से तेजी से होता है विकास
जनसहयोग जिन गांवों में मिलता है. उन गांवों का विकास तेजी से होता है. ‘स्वच्छता ही सेवा’ इस विशेष अभियान से गांवस्तरों पर स्वच्छता के अभाव से बड़े प्रमाण में जनजागृति की जाएगी़ गांव स्तरों पर श्वाश्वत स्वच्छता के लिए नागरिकों ने पहल करना चाहिए़ कार्यक्रम का संचालन राम श्रृगांरे ने किया कार्यक्रम के लिए जिप के अधिकारी, कर्मचारी बड़ी संख्या में उपस्थित थे.

जनजागृति के लिए प्रत्येक तहसील प्रभावी नियोजन करे
जिप मुख्यकार्यकारी अधिकारी दीपककुमार मीना ने बताया कि, 15 सितबंर से 2 अक्टूबर 2018 तक के कालावधि में स्वच्छता ही सेवा यह अभियान चलाया जा रहा है. इसमें 16 से 30 सितबंर तक कालावधि में ग्रामस्तरों पर जागृति अभियान, श्रमदान, परिवारों को प्रोत्साहन अनुदान वितरण, छुटे हुए परिवारों का बेसलाईन व्दारा सर्वे, कलापथक व एलएडी वैन के माध्यम से जनजागृति करना आदि का नियोजन किया गया है. 2 अक्टूबर को महात्मा गांधी जयंती यह दिन स्वच्छ भारत दिवस करके मनाया जाएगा. इसके लिए तालुका व ग्रामस्तरों पर महाश्रमदान व उसी प्रकार से स्वच्छता विषयक विविध उपक्रम चलाने के लिए गुट विकास अधिकारी, विकास प्रकल्प अधिकारी, ग्राम विकास अधिकारी, ग्रामसेवक आदि ने योग्य नियोजन कर शासन व्दारा निश्चित किए समय सारणीनुसार उपक्रम चलाए.