RTE

वाशिम. आरटीई अंर्तगत पहले चरण में लाटरी पध्दति से जिले के 543 बालकों के नि:शुल्क प्रवेश के लिए चयन किया गया है. 2 मई तक केवल 291 बालकों के प्रवेश हुए थे. उर्वरित बालकों के प्रवेश के लिए 4 मई अंतिम

वाशिम. आरटीई अंर्तगत पहले चरण में लाटरी पध्दति से जिले के 543 बालकों के नि:शुल्क प्रवेश के लिए चयन किया गया है. 2 मई तक केवल 291 बालकों के प्रवेश हुए थे. उर्वरित बालकों के प्रवेश के लिए 4 मई अंतिम तिथि होने से इस दिन तक आवश्यक प्रमाणपत्र विद्यार्थियों को प्रस्तुत करना होगा. अन्यथा संबंधित बालकों को नि:शुल्क प्रवेश से वंचित रहने की संभावना व्यक्त की जा रही है. राईट टू एज्युकेशन (आरटीई) के सन 2019-20 इस शैक्षणिक वर्ष के लिए आनलाइन प्रवेश अर्ज प्रक्रिया चलाई गई.

93 निजी शालाओं का हुआ पंजीयन
नि:शुल्क प्रवेश के लिए जिले के 93 निजी शालाओं का पंजीयन हुआ है. कुल 965 सीटों के लिए अंतिम अवधि तक 1,870 प्रवेश अर्ज प्राप्त हुए थे. प्राप्त अर्जों में से पहली लाटरी 8 अप्रैल को पुणे में निकाली गई. पहले लाटरी पध्दति में ‘घर से शाला’ की दूरी एक किलोमीटर रहने वाले 543 बालकों का प्रवेश के लिए चयन किया गया. पहले 26 अप्रैल तक प्रवेश लेने की अवधि रखी गई थी. लेकिन इस अवधि तक अनेक बालकों के प्रवेश नहीं होने से प्रवेश के लिए मुदत बढ़ाने की मांग सभी स्तरों से की गई थी. अब 4 मई तक अवधि बढ़ाकर जिले के 291 बालकों के कागदपत्रों की जांच कर प्रवेश निश्चित किए गए. उर्वरीत बालकों के कागजपत्रों गटशिक्षण अधिकारी कार्यालय में प्राप्त नहीं होने से बालकों को नि:शुल्क प्रवेश से वंचित रहने की संभावना है. जिन बालकों के दस्तावेजों की जांच नहीं हुई उन बालकों के पालकों ने 4 मई तक अपने पाल्य के कागदपत्रों की जांच कर लेने का आवाहन शिक्षणअधिकारी अंबादास मानकर ने किया है.