Bogus seed seized due to vigilance of Agriculture Department

वाशिम. इस वर्ष खरीफ मौसम के लिए कृषि विभाग ने बीटी कपास के बीजों के 1.37 लाख पैकट की मांग दर्ज की थी. वाशिम जिले में गत दो वर्षों से कपास फसल पर बोंडइल्लियों का प्रादुर्भाव होने से किसानों का बड़े

वाशिम. इस वर्ष खरीफ मौसम के लिए कृषि विभाग ने बीटी कपास के बीजों के 1.37 लाख पैकट की मांग दर्ज की थी. वाशिम जिले में गत दो वर्षों से कपास फसल पर बोंडइल्लियों का प्रादुर्भाव होने से किसानों का बड़े प्रमाण में नुकसान हुआ था़ इसलिए गत वर्ष जिले में कपास की बुआई भी कम की गई.

25,000 हेक्टयर पर कपास की बुआई प्रस्तावित
इस वर्ष के मौसम में कृषि विभाग ने बोंडइल्लियों पर नियंत्रण के लिए व्यापक योजना बनाई है. जिले में औसतन 29,701 हेक्टयर पर कपास की बुआई की जाएगी. कृषि विभाग ने केवल 25,000 हेक्टयर पर इस फसल की बुआई का नियोजन किया है. इसमें जिले के कारंजा तहसील में सर्वाधिक 10 हजार हेक्टयर, मानोरा तहसील में 9,000 हेक्टयर, मंगरुलपीर व मालेगांव तहसील में प्रत्येकी 2,000 हेक्टयर, रिसोड व वाशिम तहसील में प्रत्येकी 1,000 हेक्टयर क्षेत्रों पर कपास की बुआई का नियोजन किया गया है.

किसानों का कपास फसल की ओर रुझान
इसके लिए कृषि विभाग ने बीटी कपास के बीजों की 1.37 लाख पैकट की मांग की है. इसमें कारंजा तहसील के लिए 55,000, मानोरा तहसील के 49,500, मंगरुलपीर व मालेगांव तहसील के लिए प्रत्येकी 12,000, वाशिम व रिसोड के लिए प्रत्येकी 5,500 पैकट की मांग का समावेश है. दरम्यान इस वर्ष जिले में किसानों का कपास फसल की ओर अधिक रुझान नजर आने से कपास का उत्पादन कुछ प्रमाण में बढ़ने की संभावना व्यक्त की जा रही है.