वाशिम जिले को सूखाग्रस्त घोषित करें

वाशिम. वाशिम जिले में इन दिनों सूखे की स्थिति गंभीर है. मनुष्यों के साथ ही मवेशियों के भी बुरे हाल हैं. इस विकट परिस्थिति में मुख्यमंत्री द्वारा ठोस उपाययोजना करने की जगह पर आचारसंहिता का कारण बताकर

वाशिम. वाशिम जिले में इन दिनों सूखे की स्थिति गंभीर है. मनुष्यों के साथ ही मवेशियों के भी बुरे हाल हैं. इस विकट परिस्थिति में मुख्यमंत्री द्वारा ठोस उपाययोजना करने की जगह पर आचारसंहिता का कारण बताकर नागरिकों की समस्या की ओर नजरअंदाज कर कॉन्फ्रेंस व्दारा जिले के गिने-चुने सरपंचों से चर्चा कर जिले के सूखाग्रस्तों के साथ अन्याय करने का आरोप विधायक विजय वडेट्टीवार ने जिला परिषद अध्यक्ष के शासकीय निवास पर आयोजित पत्र परिषद में लगाया है़

इस अवसर पर उनके साथ पूर्व मंत्री राजेंद्र मुलक, विधायक रणजीत कांबले, विधायक विरेंद्र जगताप, विधायक अमित झनक, वाशिम जिला परिषद अध्यक्ष सौ़ हर्षदा देशमुख, पूर्व विधायक किसनराव गवली, पुर्व विधायक सुरेश इंगले, नातीमोद्दीन खतीब, प्रदेश प्रवक्ता अतुल लोंढे, वाशिम जिला कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष एड दिलीपराव सरनाईक आदि प्रमुखता में उपस्थित थे़ कांग्रेस विदर्भ विभागीय समिति सूखे का जायजा लेने के लिए बुधवार को वाशिम जिले में आयी थी़ पत्र परिषद में वडेट्टीवार ने कहा कि विगत 4 दिनों से सूखे बाबत की स्थिति अवगत करने के लिए दौरा किया जा रहा है़ इसमें बुलढाना जिले से प्रारंभ कर वाशिम जिले में बुधवार को मालेगांव तहसील के मुंगला ग्राम में भेंट दी व स्थिति का जायजा लिया़

मुंगला ग्राम में जलसंकट की स्थिति गंभीर हो गई है. मुंगला ग्रामवासी स्वंय के पैसे से टैंकर से पानी लाया जा रहा है़ इसी प्रकार से काटा व मानोरा गांवों में भी समिति ने भेंट दी़ उन्होंने बताया की जिले भर में पानी की गंभीर समस्या होते हुए भी जिले में केवल अभी 17 टैंकर से पानी पूर्ति की जा रही है़

समस्याओं पर सरकार गंभीर नहीं का आरोप
रोजगार पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष रोजगार गारंटी योजना के आधे से भी कम काम शुरू है़ जिससे बेरोजगारी बढ़ गई है़ सरकार ने टैंकर मुक्त करने की घोषणा की थी लेकिन वह भी असफल हुई है़ इन समस्यों को लेकर सरकार गंभीर नहीं रहने का आरोप उन्होंने किया़ जिले की रिसोड तहसील ही अंशतहा सूखा घोषित किया है़ लेकिन पूरा वाशिम जिला सूखा घोषित करने की मांग उन्होंने की़ इस संदर्भ में इस समिति ने जिलाधिकारी के साथ चर्चा कर उनको अपनी मांगों का एक निवेदन सौंपा है़ अपनी मांगों में सूखाग्रस्त भागों में त्वरीत पीने का पानी के टैकर शुरू करने व पशुओं के लिए पीने के पानी के हौद निर्माण करने, कुओ का अधिग्रहण करने आदि का समावेश है़

इस अवसर पर राजु चौधरी, विकास गवली, समाधान माने, किसनराव मस्के, प समिति सभापति गजाननराव भोने , महादेव सोंलके, युवक कांग्रेस अध्यक्ष गजानन गोटे, परशरामजी भोयर ईश्वर राठोड, वाय के इंगोले, प्रा़ अबरार मिर्झा, डा विशाल सोमटकर, विरेंद्र देशमुख, दिलीप देशमुख, दादाराव देशमुख, माणिक भगत, प्रा दिवटे तथा अन्य उपस्थित थे़