Shokoz notice to 19 teachers

वाशिम. पिछले 2 वर्षों से वरिष्ठ वेतनश्रेणी की प्रतीक्षा में रहनेवाले व 12 वर्ष सेवा पूर्ण करनेवाले 71 प्राथमिक व 11 माध्यमिक शिक्षकों को वरिष्ठ वेतनश्रेणी लागू की गई है़ साने गुरुजी सेवा संघ के

वाशिम. पिछले 2 वर्षों से वरिष्ठ वेतनश्रेणी की प्रतीक्षा में रहनेवाले व 12 वर्ष सेवा पूर्ण करनेवाले 71 प्राथमिक व 11 माध्यमिक शिक्षकों को वरिष्ठ वेतनश्रेणी लागू की गई है़ साने गुरुजी सेवा संघ के प्रदीर्घ संघर्ष के बाद जिप के मुख्यकार्यकारी अधिकारी दीपककुमार मीणा ने वरिष्ठ श्रेणी लागू की है़ 12 वर्षों से सेवा पूर्ण करनेवाले 132 प्राथमिक शिक्षकों ने पिछले 2 वर्षों से वरिष्ठ वेतनश्रेणी लागू करने के लिए प्रस्ताव पेश किया था़, किंतु प्रलम्बित पड़े प्रस्तावों की ओर किसी ने ध्यान नहीं दिया़ जिससे साने गुरुजी सेवा संघ ने समय-समय पर अधिकारी, पदाधिकारियों से भेंट कर निवेदन भी दिए थे़ 6 अक्टूबर 2018 को आंदोलन भी किया था़ बाद में 8 जनवरी 2019 को जिप के समक्ष अनशन किया था, किंतु केवल आश्वासन ही दिया गया था़ आखिर 2 मार्च 2019 को सेवा संघ की ओर से अनशन शुरू किया गया था़.

इसकी दखल लेकर मुख्य कार्यकारी अधिकारी ने प्रस्ताव जांच समिति गठित की थी़ इस समिति ने जांच पूरा कर 132 में से 71 शिक्षकों को पात्र ठहराकर अह्वाल प्रस्तुत किया था़ दरम्यान आचार संहिता लागू होने के कारण इस पर की कार्यवाई रूक गई थी, किंतु अब आचार संहिता समाप्त होने के बाद मुख्यकार्यकारी अधिकारी ने आश्वासन के अनुसार 25 मई को 71 प्राथमिक व 11 माध्यमिक शिक्षकों को वरिष्ठ वेतन श्रेणी लागू की है़ इसके लिए जिप अध्यक्षा हर्षदा देशमुख, जिप उपाध्यक्ष चंद्रकांत ठाकरे, शिक्षा सभापति सुधीर गोले, शिक्षा अधिकारी मानकर आदि का सहकार्य प्राप्त हुआ है.

सेवा संघ के जिलाध्यक्ष मधुकर महाले, जिला महासचिव प्रमोद गरकल, केशवराव खासबागे, मंचकराव तायडे, नारायणराव सरनाइक, वा़ का़ महल्ले, नितिन काले, प्रशांत देशमुख, गजानन काले, विलास इंगोले, राजू मते, सुनील काकड़े, राजू राऊत, विलासराव बोरकर, अरुण ठाकरे, संदीप महाले, सतीश घुगे, नितिन देवकर, रवि देशमुख, गजानन सोनुने, विश्वनाथ भालेराव, देवीदास महल्ले, सुधाकर चौधरी, अमित भुजबल राजाभाऊ खोटे, संतोष गांवडे, नानाराव घुगे आदि पहल की थी़ इस अवसर पर मुख्यकार्यकारी अधिकारी दीपककुमार मीणा, शिक्षा अधिकारी मानकर, उपशिक्षा अधिकारी डाबेराव का सत्कार किया गया़ शिक्षकों के अन्य प्रश्न भी अब शीघ्र ही हल करने की विनंती पर की गई़