शाला के पहले दिन पर ही मिलेगी वद्यिार्थीयो को पाठ्य पुस्तके

वाशिम. शासकीय शाला, स्थानीय स्वराज्य संस्था की शालाएं व अनुदानित शालाओं में कक्षा पहली से आठवी तक के सभी माध्यम के शिक्षा ले रहे जिले के 1.53 लाख विद्यार्थियों को शाला के पहले दिन पर ही नि:शुल्क

वाशिम. शासकीय शाला, स्थानीय स्वराज्य संस्था की शालाएं व अनुदानित शालाओं में कक्षा पहली से आठवी तक के सभी माध्यम के शिक्षा ले रहे जिले के 1.53 लाख विद्यार्थियों को शाला के पहले दिन पर ही नि:शुल्क पाठ्यपुस्तकें वितरित करने का नियोजन प्राथमिक शिक्षण विभाग ने किया है़ 7.60 लाख में से अभी तक 7.47 लाख पाठ्यपुस्तकें शिक्षण विभाग को प्राप्त हुई है़ 26 जून से शाला प्रारंभ हो रही है़ विद्यार्थियों की सौ प्रतिशत उपस्थिति रहना, पाठ्यपुस्तकों से कोई भी वंचित न रहे, पाठ्यपुस्तक के अभाव से उनकी पढ़ाई में कोई अडचन नहीं आए. इसलिए समग्र शिक्षा अभियान से शासकीय शाला, स्थानीय स्वराज्य संस्था की शालाएं व अनुदानित शालाओं के कक्षा पहली से आठवी तक के सभी माध्यम के विद्यार्थियों को नि:शुल्क पाठ्यपुस्तकों का वितरण किया जाता है़ जिला परिषद के प्राथमिक शिक्षण विभाग ने विद्यार्थी संख्यानुसार 7 लाख 586 पाठ्यपुस्तकों की मांग दर्ज की थी़

इसमें कारंजा तहसील के 21,112 विद्यार्थियों के लिए एक लाख 20, 411 पाठ्यपुस्तके, मालेगांव तहसील के 23,759 विद्यार्थियों के लिए एक लाख 17,340 पाठ्यपुस्तकें, मंगरुलपीर तहसील के 20,744 विद्यार्थियों के लिए एक लाख 3 हजार 165 पाठ्यपुस्तके, मानोरा तहसील के 19, 471 विद्यार्थियों के लिए 96, 416 पाठ्यपुस्तके, रिसोड तहसील के 30,685 विद्यार्थियों के लिए एक लाख 52 हजार 166 पाठ्यपुस्तकें तो वाशिम तहसील के 37,979 विद्यार्थियों के लिए एक लाख 71 हजार 88 पाठ्यपुस्तकों का वितरण किया जाएगा. 31 मई तक जिले के लिए 7 लाख 47 हजार 625 पाठ्यपुस्तकें प्राप्त हुई है़ यह पुस्तके जिले के संबंधित पंचायत समिति गटशिक्षण अधिकारी द्वारा मुख्याध्यापक को दी जाएगी़ शाला के पहले दिन 26 जून को मान्यवरों के हाथों उपस्थित विद्यार्थियों को पाठ्यपुस्तकों का वितरण किया जाने का नियोजन शिक्षा विभाग ने किया है़