जिले के भूजल स्तरों में गिरावट

वाशिम. भूजल सर्वेक्षण व विकास यंत्रणा की ओर से जिले के 79 कुओं का निरीक्षण कर भूजल स्तर की वर्तमान स्थिति का अवलोकन किया गया. इसमें जिले के भूजल स्तर में गत पांच वर्ष की तुलना में औसतन 1.6 मीटर की

वाशिम. भूजल सर्वेक्षण व विकास यंत्रणा की ओर से जिले के 79 कुओं का निरीक्षण कर भूजल स्तर की वर्तमान स्थिति का अवलोकन किया गया. इसमें जिले के भूजल स्तर में गत पांच वर्ष की तुलना में औसतन 1.6 मीटर की गिरावट दर्ज की गई. इससे जिले के मालेगांव तहसील में पानी की समस्या की स्थिति चिंताजनक हो गई है. अन्य पांच तहसीलों में भी भूजल स्तर ‘मायनस’ होने की जानकारी वरिष्ठ भूवैज्ञानिक कडू ने दी है़ सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार वर्ष भर में चार बार अच्छी तरह से अवलोकन कर भूजल स्तर की स्थिति की जांच की जाती है़ इसके अनुसार मई महिने के अंतिम सप्ताह में भूजल सर्वेक्षण व विकास विभाग की ओर से मुहिम की शुरूवात की गई थी़

79 निरीक्षण कुओं में से वाशिम तहसील के 11 कुओं के अवलोकन में पिछले पांच वर्ष में मई महिने के भूजल स्तरों में औसतन 0.96 मीटर से कमी पायी गई. मालेगांव तहसील के 8 कुओं के अवलोकन में 1.35 मीटर से कमी आई. रिसोड तहसील में 18 कुओं के अवलोकन में 1.7 मीटर, मंगरुलपीर तहसील में 11 कुओं के अवलोकन में 0.82 मीटर, मानोरा तहसील में 15 कुओं के अवलोकन में 1.22 मीटर तो कारंजा तहसील के 16 कुओं के अवलोकन में औसतन 092 मीटर से कमी आने का पाया गया़

131 लघु जलप्रकल्पों में से 105 सूखे 
जिले में जलसंपदा के कुल 131 जलप्रकल्प में से 30 मई तक 105 प्रकल्प पूर्णतहा सूख गए है़ शेष 26 प्रकल्पों में करीब करीब 5.17 प्रश जलसंग्रह शेष रहा है़ इसके अलावा वाशिम शहर को जलापूर्ति करने वाले एकबुर्जी मध्यम जलप्रकल्प में 7 प्रश तो कारंजा तहसील के अडाण मध्यम जलप्रकल्प में 5 प्रश जल संग्रह शेष होकर मालेगांव तहसील के सोनल मध्यम जलप्रकल्प नीचे तक पंहुच गया है़ जिससे मालेगाव तहसील में टैंकर से जलापूर्ति की जा रही है़