Odisha targets to produce 96 lakh tonnes of food grains from 2020 kharif crop

वाशिम. जिले का कोई भी पात्र किसान फसल कर्ज से वंचित नहीं रहेगा. उसी प्रकार फसल कर्ज के लिए किसी भी किसान को साहूकार के पास न जाना पड़े इसलिए बैंकों को फसल कर्ज देने के लिए किसानों तक पहुंचने के

वाशिम. जिले का कोई भी पात्र किसान फसल कर्ज से वंचित नहीं रहेगा. उसी प्रकार फसल कर्ज के लिए किसी भी किसान को साहूकार के पास न जाना पड़े इसलिए बैंकों को फसल कर्ज देने के लिए किसानों तक पहुंचने के निर्देश जिलाधिकारी ह्षीकेश मोडक ने दिए हैं. वे जिलाधिकारी कार्यालय के वाकाटक सभागृह में बैंकों से फसल कर्ज पर आयोजित जायजा बैठक में बोल रहे थे़ इस अवसर पर अग्रणी जिला बैंक के प्रबंधक दत्तात्रय निनावकर, नाबार्ड के जिला विकास व्यवस्थापक विजय खंडरे प्रमुखता में उपस्थित थे.

जिलाधिकारी मोडक ने कहा कि, किसानों को फसल कर्ज की पूर्ति करना यह बैंक का महत्वपूर्ण काम है. बैंकों तक फसल कर्ज के लिए किसान क्यों नहीं आते इस बाबत की स्थिति पर उन्होंने कहा कि बैंक किसानों को सहयोग नहीं करते ऐसा किसानों का आरोप रहता है़ इसे दूर करने के लिए बैंकों ने ही अब समाजिक दायित्व समझकर किसानों तक पहुंच कर उनको फसल कर्ज उपलब्ध कराए़

बैंक को देना होगा कारण
जिन बैंकों की शाखाओं ने फसल कर्ज वितरण नहीं किया उनके शाखा के व्यवस्थापकों ने प्रत्येक सोमवार को लिखित रूप में कारण प्रस्तुत करना होगा़ इस अवसर पर निनावकर ने बताया कि ‘जिले के बैंकों ने पात्र किसानों को फसल कर्ज उपलब्ध कराने की सूचना दी गई है़ जिले में सन 2019-20 इस वर्ष के खरीफ मौसम में 1 लाख 93 हजार 890 किसान को 1,530 करोड़ फसल कर्ज वितरण का लक्ष्य दिया गया है़

257 करोड़ का कर्ज वितरित
इसमें 21 जून तक केवल 31,136 किसान सभासदों को 257 करोड 31 लाख रुपये याने 16.82 प्रतिशत फसल कर्ज वितरित किया गया़ जिन बैंकों को कर्ज वितरण का लक्ष्य दिया गया है़ इनमें इलाहाबाद बैंक, बैक आफ बडोदा, बैक आफ इंडिया, बैंक आफ महाराष्ट्र, कैनरा बैक, सेंट्रल बैंक आफ इंडिया, इंडियन ओव्हरसीस बैक, पंजाब नेशनल बैक, स्टेट बैंक आफ इंडिया, सिंडीकेट बैंक, युको बैंक, युनियन बैंक आफ इंडिया, एक्सीस बैंक, एचडीएफसी बैंक, आयसीआसीआय बैंक , आयडीबीआय बैंक, वैनगंगा कृष्णा ग्रामीण बैंक महाराष्ट्र व मध्यवर्ती सहकारी बैंक के कुल 117 शाखाओं का समावेश है़