किसान पुत्र ने राज्यपाल से मांगी इच्छामृत्यु की अनुमति

वाशिम. हाल ही में बैमौसम बारिश से खरीफ की मुख्य फसल सोयाबीन का भारी मात्रा में नुकसान होने से आर्थिक संकट से जूझ रहे मालेगांव तहसील के तिवली ग्राम निवासी एक किसान पुत्र ने जिलाधिकारी को राज्यपाल

वाशिम. हाल ही में बैमौसम बारिश से खरीफ की मुख्य फसल सोयाबीन का भारी मात्रा में नुकसान होने से आर्थिक संकट से जूझ रहे मालेगांव तहसील के तिवली ग्राम निवासी एक किसान पुत्र ने जिलाधिकारी को राज्यपाल भगतसिंग कोश्यारी के नाम एक पत्र देकर तत्काल आर्थिक सहायता देने की मांग की है साथ ही आर्थिक सहायता नहीं मिलने पर परिवार समेत आत्महत्या करने की अनुमति देने की मांग की है़ जिले के मालेगांव तहसील के ग्राम तिवली निवासी किसान पुत्र रवि वामन लहाने ने शुक्रवार को राज्यपाल के नाम से जिलाधिकारी को सौंपे गए निवेदन में कहा कि, हाल ही में जिले भर में हुई बैमौसम बारिश के कहर से ग्राम तिवली परिसर में स्थित उनका खेत भी नहीं बच पाया़ खेत में खड़ी सोयाबीन फसल क्षतिग्रस्त हो गई़ जिससे उनको भारी मात्रा में आर्थिक नुकसान हुआ़ उनके परिवार के सामने रोजी रोटी की समस्या निर्माण हुई़

-बीमा कंपनी की ओर से नहीं मिली मदद

निवेदन में अवगत कराया गया कि, इस मौसम में बारिश के कारण सोयाबीन के साथ ही तुअर फसल को भारी नुकसान पंहुचा है़ लेकिन अभी तक ग्राम तिवली परिसर में किसी भी किसान की शासकीय मदद नही मिली़ तो बीमा निकालने के लिए बावजूद फसल बीमा कंपनी की ओर से कोई सहायता नही दी गई़ किसान ने कहा कि, एक ओर फसल बर्बाद होने से किसान आर्थिक संकट में घिर गया तो दूसरी ओर बैंक भी कर्ज अदायगी को लेकर नोटिस भेज रहे है़ जिसमें पहले ही बेमौसम बारिश की मार से टूट चुके किसान को बैंक की नोटिस के कारण दोहरी मार सहनी पड़ रही है़ किसान पुत्र रवि लहाने ने राज्यपाल से मांग की है कि वे तत्काल ठोस कदम उठाकर शासकीय आर्थिक सहायता प्रदान करे अथवा परिवार समेत आत्महत्या करने की अनुमति दे़ निवेदन की प्रतियां राज्यपाल के साथ ही विभागीय आयुक्त अमरावती, जिलाधिकारी, जिला पुलिस अधीक्षक व जिला अग्रणी बैंक व्यवस्थापक को भी भेजी गई़

शासन की ओर से अभी तक नहीं मिली राहत

उल्लेखनिय है कि, हाल ही में हुई बेमौसम बारिश ने जिले भर में कहर बरपाकर खरीफ की मुख्य फसल सोयाबीन समेत तुअर व अन्य फसलों, फलबागों को भी नुकसान पहुंचाया है़ जिससे जिले भर के किसानों पर आर्थिक संकट छा गया है़ शासन, प्रशासन व्दारा प्रभावित किसानों के नुकसान का पंचनामा करने के साथ ही फसल बीमा कंपनी व्दारा भी आवश्यक खानापूर्ति की गई़ लेकिन प्रभावित किसानों को अभी तक ना तो शासन की ओर से और न ही बीमा कंपनी की ओर से किसी भी प्रकार की आर्थिक मदद नहीं मिल पाई है़ जिससे किसान हैरान परेशान है़ ऐसे में बैंकों व्दारा कर्ज को लेकर भेजी जा रही नोटिस ने किसानों की परेशानी और बढ़ा दी है़