नागपुर विधानभवन पर हल्लाबोल कल

वाशिम. सरकार की शिक्षा के प्रति उदासीन नीतियों के विरोध में 18 दिसंबर को नागपुर में विधान भवन पर आंदोलन किया जा रहा है़ इस आंदोलन में सभी शिक्षक, कर्मचारियों से उपस्थित रहने का आह्वान अमरावती

वाशिम. सरकार की शिक्षा के प्रति उदासीन नीतियों के विरोध में 18 दिसंबर को नागपुर में विधान भवन पर आंदोलन किया जा रहा है़ इस आंदोलन में सभी शिक्षक, कर्मचारियों से उपस्थित रहने का आह्वान अमरावती विभागीय शिक्षक संघ के संस्थापक अध्यक्ष एड.किरणराव सरनाईक ने किया है़ अमरावती विभागीय शिक्षक संघ सदैव शिक्षकों के हितों के लिए व अधिकारों के लिए ही संघर्ष कर रहा है़ सरकार ने निजी अनुदानित सेवा के प्रति उदासीनता की भूमिका अपना रही है़ जिससे भविष्य में कमजोर वर्ग, सामान्य बहुजन छात्रों के लिए शिक्षा से वंचित रहने की संभावना हो सकती है़ ऐसी स्थिति में शिक्षा व्यवस्था लड़खड़ाने के संकेत नजर आ रहे हैं. 31 अक्टूबर 2005 को पुरानी पेन्शन योजना बंद कर एक प्रकार से शासन ने अन्याय ही किया है. उसी प्रकार से शिक्षक भर्ती हो अथवा शिक्षकों की वेतन श्रेणी हो, वेतनेत्तर अनुदान या शालाओं का अनुदान आदि बाबत शासन व्दारा नजर अंदाज करने का प्रयास किया जा रहा है़. लेकिन अमरावती विभागीय शिक्षक संघ इस अन्याय को दूर करने के लिए कटिबध्द है़

-मोझरी से आंदोलन की शुरूआत

18 दिसंबर को नागपुर स्थित विधान भवन पर आंदोलन का आयोजन किया गया है़ इस आंदोलन की शुरुवात राष्ट्रसंत तुकडोजी महाराज की कर्मभूमि मोझरी से किया जाएगा. इस धरना आंदोलन में विविध मांगे रखी जाएगी़ इसमें 1 नवम्बर 2005 के पूर्व व बाद में सेवा में नियुक्त सभी शिक्षक व शिक्षकेत्तर कर्मचारियों को पुरानी पेन्शन योजना पूर्ववत लागू करना, अनुदान के लिए पात्र घोषित व अघोषित शाला, महाविद्यालयों को अनुदान देना, डी.सी.पी.एस. धारक मृत कर्मचारी उनके परिवारों को 7 वे वेतन आयोगनुसार परिवार निवृत्ति वेतन देना आदि समेत विविध मांगों को लेकर यह धरना आंदोलन किया जा रहा है़