मंगरुलपीर नप भवन खस्ताहाल

मंगरुलपीर. प्रशासन पर पूरे शहर को सुंदर और स्वच्छ रखने की जिम्मेदारी है. वर्तमान में मंगरुलपीर नगर परिषद का भवन जो बाहर से रंगरोंगन में बेहतर दिखाई देता है, भवन की सामने की ही छत कमजोर होकर छत से

मंगरुलपीर. प्रशासन पर पूरे शहर को सुंदर और स्वच्छ रखने की जिम्मेदारी है. वर्तमान में मंगरुलपीर नगर परिषद का भवन जो बाहर से रंगरोंगन में बेहतर दिखाई देता है, भवन की सामने की ही छत कमजोर होकर छत से प्लास्टर टपकने का क्रम शुरू रहता है. नागरिकों ने बताया कि छत से प्लास्टर टपकने से कई परेशानियां होती है. चर्चा है कि पहले यह बिल्डिंग वाचनालय के लिए बनी हुई थी.

फ़िलहाल इसी में नगर परिषद संचालित हो रही है. इसकी छत व दीवारों का प्लास्टर जगह – जगह से उखड़ रहा है. साथ ही इसकी दीवारों में भी कई स्थानों पर बड़ी -बड़ी दरारें हो चुकी है. यदि यह भवन किसी दिन क्षतिग्रस्त हो गया तो बड़ी दुर्घटना से इंकार नहीं किया जा सकता है. प्रशासन पर पूरे शहर की सफाई और सुंदरता रखने का जिम्मा है, लेकिन खुद का कार्यालय भवन बदहाल है. अनदेखी के कारण नप की इमारत लगातार खस्ता हो रही है.

इमारत की छत गंदगी से अटी पड़ी
भवन की आगे की छतों में दरारें आ चुकी हैं, जो कभी भी हादसे का कारण बन सकती हैं. निर्माण के बाद दोबारा संबंधित अधिकारियों ने भवन की सुध नहीं ली. हालांकि भवन में भूतल और पहली मंजिल पर लोगों की आवाजाही के कारण सफाई रहती है, लेकिन इमारत की छत गंदगी से अटी पड़ी है, छत को देखकर ऐसा लगता है, जैसे कई माह से इसकी तरफ कोई ध्यान नहीं दिया गया हो ऐसे में शहर के मुख्य सार्वजनिक स्थान पर सरकार के संपूर्ण स्वच्छता अभियान को सरेआम दरकिनार किया जा रहा है

छत एवं दीवारों में आई दरारें
नगर परिषद भवन में ऊपर की ओर कर्मचारियों के लिए बनाए गए कार्यालयों की दीवारें खस्ताहाल हैं, उनकी दीवारों में दरारें आ चुकी हैं. नागरिकों ने बताया कि एक बार नर्मिाण के बाद इसकी दुबारा सुध नहीं ली गई. एक बार जहां-तहां रिपेरिंग कराई गई थी, लेकिन वह भी महज खानापूर्ति थी. अब दुबारा दरारें आ गई हैं. दीवारों से पेंट और सीमेंट उतर रहा है. इमारत में बने ज्यादातर कमरों के ऐसे ही हालात हैं.

पीने के पानी की ओर भी स्वच्छता नहीं है
नगर परिषद कार्यालय में आनेवाले लोगों को जो पानी मिल रहा है, वह पीने लायक हैं या नहीं. सीढ़ियों के नीचे रखे पानी के मटके अँधेरे में हैं, वहां गंदगी जमा हो गई है, नियमित सफाई न होने से उनमें काई भी लग गई है. रोजाना अपने काम के लिए आनेवाले लोग वहां पानी पीते हैं, लेकिन उन्हें यह नहीं पता कि मटकों में भरा गया पानी स्वच्छ है या दूषित है.

नप भवन की छत पर का दरवाजा टूटा हुआ है और पुराना सामान ऊपर फेंक दिया जाता है. नप का पुराना कार्यालय भवन जर्जर हो चुका है. इसके आसपास लोगों की आवाजाही बनी रहती है. इसे भी खाली करवाकर डस्मिेंटल की प्रक्रिया कब शुरू होंगी और कब बनेगा न.प. का नया भवन इस बारे में कोई जानकारी नहीं है. अधिक पुराना भवन होने डर लगा रहता है

कार्यालय पुराना: बेग
नप सदस्य मिर्जा उबेद बेग ने कहा कि शहर स्थित न.प. कार्यालय पुराना हो चुका है. भवन में जगह-जगह दीवारों व छतों से चूना गिरता है छज्जों की प्लास्टर टूट कर गिर रहा है. कार्यालय में काम करने वाले कर्मचारी भय के साए में काम करने को मजबूर हैं. वहां आने वाले लोग भी सहमे-सहमे जाते हैं.

पुरानी जगह पर ही बनाया जाए दफ्तर :जहागीरदार
शहर कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सलीम जहागीरदार ने कहा कि मंगरुलपीर के हफ़ीज़पुरा में ही पुरानी इमारत को डिस्मेंटल कर नया शहर का न.प भवन को बनाया जाए.

पार्षदों के समक्ष रखेंगे:
– नवनर्विाचित निर्माण कार्य सभापति ने कहा कि परिषद की आगामी बैठक में नई इमारत के निर्माण के मुद्दे को पार्षदों के समक्ष रखेंगे. इस संदर्भ में उचित कदम उठाए जाएंगे.