वाटर कप स्पर्धा: बोरव्हा, विलेगांव प्रथम, मुख्यमंत्री के हाथों मिला 10 लाख का पुरस्कार

वाशिम. पानी फाउंडेशन की ओर से सत्यमेव जयते वाटर कप स्पर्धा आयोजित की गई थी. इसमें महाराष्ट्र की ओर से 75 तहसीलों के 4 हजार से अधिक गांवों ने भाग लिया. इसमें वाशिम जिले के कारंजा (लाड) तहसील के

वाशिम. पानी फाउंडेशन की ओर से सत्यमेव जयते वाटर कप स्पर्धा आयोजित की गई थी. इसमें महाराष्ट्र की ओर से 75 तहसीलों के 4 हजार से अधिक गांवों ने भाग लिया. इसमें वाशिम जिले के कारंजा (लाड) तहसील के विलेगाव व मंगरुलपीर तहसील के बोरव्हा गांव को दस लाख रुपयों का प्रथम पुरस्कार घोषित हुआ है.

बेलमंडल व लखमापुर को द्वितीय पुरस्कार
वाटर कप स्पर्धा पुरस्कार वितरण समारोह शिवाजी छत्रपति क्रीड़ा संकुल म्हालुंगे, बालेवाडी पुणे में संपन्न हुआ़ इसी प्रकार से कारंजा तहसील के बेलमंडल,व मंगरुलपीर तहसील के लखमापुर गांव को पांच लाख रुपयों का व्दितीय पुरस्कार, कारंजा के बांबर्डा कानकिरड व मंगरुलपीर के शेंदुरजना गांव को 3 लाख रुपयों का तृतीय पुरस्कार प्राप्त हुआ है़ इन पुरस्कारों का मुख्यमंत्री के हाथों वितरण किया गया़ जलसंधारण के कामों के लिए श्रमदान करके करोड़ों लीटर पानी संग्रहित करने की क्षमता निर्माण की है.

इन सभी वाटर हीरो को मानवंदना देने के लिए और स्पर्धा के विजेताओं का सन्मान करने के लिए पानी फाऊंडेशन ने शिव छत्रपति क्रीडा संकुल म्हालुंगे बालेवाडी पुणे में पुरस्कार वितरण समारोह का आयोजन किया था.

इस अवसर पर प्रमुख अतिथि के रूप में देवेंद्र फडणवीस, राष्ट्रवादी कांग्रेस के अजित पवार, महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के अध्यक्ष राज ठाकरे ,पानी फाऊंडेशन के संस्थापक अमिर खान आदि के साथ कला, राजनीति व उद्योग क्षेत्र के लोग उपस्थित थे.

55 गांवों ने स्पर्धा में भाग किया था श्रमदान
इस वर्ष के वाटर कप स्पर्धा में वाशिम जिले के मंगरुलपीर और कारंजा तहसीलों का चयन किया गया था़ इन दोनों तहसील के 55 गांवों ने इस स्पर्धा में भाग लेकर श्रमदान के माध्यम से उत्कृष्ट कार्य किया है.