38 कुपोषित बालकों के लिए 83 ग्राम बालविकास केंद्र शुरू

वाशिम.जिले के 138 कुपोषित बालकों को योग्य उपचार मिले इस दृष्टि से जिले में 83 ग्राम बालविकास केंद्र की सुविधा उपलब्ध कराई गई है. इसमें मालेगांव तहसील में कुपोषित बालकों की संख्या अधिक होने की

वाशिम. जिले के 138 कुपोषित बालकों को योग्य उपचार मिले इस दृष्टि से जिले में 83 ग्राम बालविकास केंद्र की सुविधा उपलब्ध कराई गई है. इसमें मालेगांव तहसील में कुपोषित बालकों की संख्या अधिक होने की जानकारी है. जिले में कुपोषित बालकों का प्रमाण कम करने के साथ ही कुपोषित बालकों को योग्य उपचार, संतुलित आहार मिले, इसके लिए ग्राम बालविकास केंद्र शुरू करने बाबत जिला परिषद के मुख्यकार्यकारी अधिकारी दीपककुमार मीणा ने महिला व बालविकास विभाग का जायजा लेकर बालविकास प्रकल्प अधिकारियों को योग्य आदेश दिए थे.

सप्ताह में एक बार जांच आश्वयक
कुपोषण पर मात करने के लिए पोषक आहार देना और समय पर ही आवश्यक स्वास्थ सेवा उपलब्ध कराना जरूरी है. इससे ही यह समस्या हल हो सकेगी़ इसके अनुसार आंगनवाड़ी स्तर पर ग्राम बालविकास केंद्र स्थापित कर कुपोषित बालकों पर योग्य उपचार करने की योजना सामने आई़ सप्ताह में एकबार एएनएम, प्राथमिक स्वास्थ केंद्र के वैद्यकीय अधिकारी ग्राम बालविकास केंद्र को भेंट देकर सभी बालकों की स्वास्थ जांच करेंगे़ जिन बालकों में स्वास्थ्य सुधार नहीं नजर आ रहा है उनपर वैद्यकीय उपचार शुरु की जाएगी. आंगनवाडी सेविका बालकों की प्रतिमाह वजन और उंचाई लेकर बालकों की वर्गवारी साधारण, कुपोषित और अकुपोषित करना चाहिए़ ऐसी आदेश भी दिए गए है. बालकों को ग्राम बालविकास केंद्र में दाखल करने के बाद सुबह व शाम उपचार किया जाता है. संबंधित बालकों व उनके पालकों को आगे 30 दिन तक आंगनवाडी में बुलाया जाता है.

वाशिम तहसील में हैं 170 आंगनवाडी केंद्र
वाशिम तहसील में 170 आंगनवाडी केंद्र ह. 29 कुपोषित बालक पाए गए़ इन बालकों पर योग्य उपचार होने के लिए 19 ग्राम बालविकास केंद्र शुरु की गई है. इसी प्रकार से रिसोड तहसील में 186 आंगनवाड़ी केंद्र हैं. 13 कुपोषित बालक पाए गए़ यहां पर 9 ग्राम बालविकास केंद्र शुरु किए गए है़. मालेगांव तहसील में 180 आंगनवाडी केंद्र है. यहां पर 38 कुपोषित बालक पाए गए़ इनके उपचार के लिए 17 ग्राम बालविकास केंद्र शुरू किए गए है. मंगरुलपीर तहसील में 187 आंगनवाडी केंद्र है. यहां पर 14 कुपोषित बालकों के लिए 9 ग्राम बालविकास केंद्र शुरू किए गए है़. कारंजा तहसील में 156 आंगनवाडी केंद्र पर 9 कुपोषित बालक पाए गए इनके उपचार के लिए 6 ग्राम बालविकास केंद्र शुरू किए गए है़. मानोरा तहसील में 197 आंगनवाडी केंद्र पर 35 कुपोषित बालक पाए गए इनके उपचार के लिए 23 ग्राम बालविकास केंद्र शुरू किए गए है़.