Massive crowd in markets, shopping in view of lockdown
File Photo

    • शहर के व्यापारियों के विचार 

    अकोला. शहर तथा जिले में काफी लंबे समय तक लाकडाउन रहा. अब दोपहर 2 बजे तक सभी प्रतिष्ठानों को खोलने की छूट दी गई तथा सोमवार 7 जून से दोपहर 4 बजे तक प्रतिष्ठानों को खोलने की अनुमति दी जा रही है. अब शहर तथा जिले के लोगों के साथ साथ व्यापारियों का कहना है कि जैसे जैसे कोरोना वायरस के रोगी कम हों वैसे वैसे शहर तथा जिले में संपूर्ण अनलाक होना चाहिए. इस बारे में बातचीत करने पर शहर के व्यापारियों ने अपने विचार प्रकट किए. प्रस्तुत हैं उनके विचार.

    सख्ती से सूचनाओं के पालन के साथ अब संपूर्ण अनलाक जरूरी

    राज्य सरकार और जिला प्रशासन द्वारा कोरोना वायरस के रोगी कम होने के साथ साथ तीसरे चरण में अकोला शहर तथा जिले में 7 जून से दोपहर 4 बजे तक सभी प्रतिष्ठान खोलने की अनुमति दी जा रही है. प्रशासन का काम है कि अब कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए जो सूचनाएं दी गई हैं. उनका सख्ती से पालन के साथ अब संपूर्ण अनलाक जरूरी हो गया है.

    यह विचार बातचीत के दौरान विदर्भ चेम्बर ऑफ कॉमर्स एन्ड इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष नितिन खंडेलवाल ने प्रकट किए. उन्होंने कहा कि यदि शहर तथा जिले में कोरोना संक्रमण का रिकवरी रेट बढ़ जाता है उस अनुसार शीघ्र अतिशीघ्र संपूर्ण अनलाक होना चाहिए. सभी व्यापारी, उद्योजक कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए जिला प्रशासन को पूरा सहयोग देंगे, यह भी उन्होंने कहा. 

    शाम तक अनुमति देनी चाहिए -नवीन कृपलानी

    स्थानीय चार्टेड अकाउंटंट नवीन कृपलानी से बातचीत करने पर उन्होंने कहा कि कोरोना की संभावित तीसरी लहर को देखते हुए संपूर्ण अनलाक भले ही न किया जाए लेकिन कम से कम शाम को 7 बजे तक बाजारों को खुले रहने की अनुमति दी जानी चाहिए. इसी तरह व्यापारियों के साथ साथ सभी का काम है कि घरों से बाहर निकलते समय मास्क लगाए और सोशल डिस्टेन्सिंग का पालन करें तथा सभी सूचनाओं पर सख्ती से अमल करें. 

    संपूर्ण अनलाक जरूरी है -राजीव विठलानी

    स्थानीय राजकोटवाला फुड शॉपी के संचालक राजीव विठलानी से बातचीत करने पर उन्होंने कहा कि पिछले काफी लंबे समय तक चले लाकडाउन के कारण व्यापारियों को काफी नुकसान का सामना करना पड़ा है. सरकार द्वारा धीरे धीरे लाकडाउन में छूट दी जा रही है. लेकिन यदि अकोला में कोरोना वायरस के रोगी कम हो जाते हैं तो जिला प्रशासन ने शहर तथा जिले में अनलाक करना चाहिए. इसी तरह सभी का काम है कि वायरस के प्रसार को रोकने के लिए जो सूचनाएं दी गई हैं. उनका पूरी सख्ती से पालन करना चाहिए, जिससे कोरोना वायरस के प्रसार को रोका जा सके.