Prime Minister assured all possible help to cyclone affected West Bengal

एम्स्टर्डम (नीदरलैंड). भारत सरकार द्वारा कोरोना वायरस के जंग के खिलाफ लगाए गए 21 दिनों के लॉकडाउन की दुनियाभर में प्रशंसा की जा रही । एक यूरोपीय प्रमुख थिंक-टैंक ने कोरोना की रोकथाम के

एम्स्टर्डम (नीदरलैंड). भारत सरकार द्वारा कोरोना वायरस के जंग के खिलाफ लगाए गए 21 दिनों के लॉकडाउन की दुनियाभर में प्रशंसा की जा रही। एक यूरोपीय प्रमुख थिंक-टैंक ने कोरोना की रोकथाम के लिए भारत में लगाए गए  21 दिन के लॉकडाउन को सहरानीय कदम बताया है। उन्होंने आगे कहा कि भारत जैसे 130 करोड़ आबादी वाले देश में लगाया गया लॉकडाउन का फैसला बिलकुल भी आसान नहीं है। 

एम्स्टर्डम आधारित थिंक-टैंक, यूरोपियन फाउंडेशन फॉर साउथ एशियन स्टडीज (EFSAS) ने लॉकडाउन को कठिन कार्य बताया है। EFSAS के निदेशक जुनैद कुरैशी ने कहा, की मेरी राय में भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की यह घोषणा अपने आप में एक मिशाल है। भारत जैसे घनी जनसंख्या वाले देश में लोगों में दुरी बनाये( सोशल डिस्टेंसिंग कॉन्सेप्ट) जैसे महामारी को रोकने में लॉकडाउन बेहद महत्वपूर्ण फैसला है। भारत ने अपनी सीमाओं को बंद करने फैसला सबसे पहले लिया था और 21 दिनों का लॉकडाउन लागू किया है। वहीं यूरोपीय देशों महामारी के बढ़ोत्तरी के बाद भी इसकी रोकथाम के किये कड़े निर्णय नहीं लिए जा रहे है। साथ ही निश्चित फैसले में देरी की जा रही है। 

उन्होंने कहा कि भारत सरकार का यह कदम दूरदर्शिता को दर्शाता है। वरना भारत जैसे घनी आबादी वाले देश में वैश्विक महामारी के विनाशकारी परिणाम हो सकते थे। बता दें कि रिपोर्ट के अनुसार कोरोना वायरस के संक्रमित मामले अमेरिका में 144,280, इटली में 97,687 और चीन में 81,195 है। जब की भारत में 1071 मामले दर्ज किए गए हैं।