जंगल में हुआ जन्म, आजतक हैं दुनिया से अनजान, दूर-दूर तक नहीं रहता कोई इंसान

मॉस्को. दुनिया की सबसे अकेली औरत होने का खिताब रूस के साइबेरिया इलाके में रहने वाली 76 वर्षीय ‘अगाफाया लाइकोवा’  (Agafaya Lykova) को मिला है। आपको जानकर हैरानी होगी कि, अगाफाया साइबेरिया (Siberia) के एक ऐसे इलाके में रहती हैं जहां से 100 मील के दायरे में दूर-दूर तक कोई और इंसान नहीं रहता। अब रूस के बिलेनियर टाइकून ओलेगा देरीपास्का (Russian Billionaire Tycoon Oleg Deripaska) अगाफाया की मदद कर रहे हैं।

बता दें कि, साल 1936 में स्टालिन से डरकर अगाफाया का परिवार साइबेरिया के जंगलों में बस गया था। तब से अगाफाया वहीं रहती हैं, और अब अकेले ही बची हैं। जिंदगी जीने के लिए अगाफाया खुद ही सब्जियां और अनाज उगाती हैं। एक बाइबल के सहारे ही वे जिंदगी गुजार रही हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार, ओलेगा ने अगाफाया को शहर आने कहा था, परंतु  इस उम्र में उन्होंने अपना घर छोड़ने से साफ इंकार कर दिया। जिसके बाद ओलेगा ने ऐलान किया है कि वे अगाफाया के लिए एक आलीशान घर बनावाएंगे। सेनिक माउंटसाइड से 150 मील दूर स्थिति अगाफाया के घर पर ही आधुनिक सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी।

जंगल में हुआ था अगाफाया का जन्म 

रूस के हजारों परिवार, स्टालिन राज के धार्मिक नरसंहार से डरकर जंगलों में आकर बस गए थे। हालांकि, प्राकृतिक आपदा और भीषण सर्दी के चलते काफी लोगों की मौत हो गई। वहीं कुछ लोग शासन बदलने पर वापस शहरों में लौट गए। इसी दौरान साइबेरिया के जंगलों में अगाफाया का जन्म हुआ था। अगाफाया का जीवन दुनिया से एकदम अलग-थलग है। द्वितीय विश्व युद्ध और रूस के पहले मून मिशन के बाद उन्हें दुनियां में क्या हो रहा है इसकी जानकारी नहीं है। आप जानकर चौंक जाएंगे कि, अगाफाया जहां रहती हैं वहां सर्दियों में तापमान -50 डिग्री सेंटीग्रेट तक चला जाता है। ऐसे में अंदाजा लगाया जा सकता है कि, अगाफाया का जीवन कितना चुनौतीपूर्ण रहा होगा। अगाफाया जहां रहती हैं वहां दुनिया में फैली कई बड़ी बीमारियां भी कभी नहीं पहुंच पाईं।

 

 सरकार के लिए अब अगाफाया की बढ़ती उम्र चिंता का विषय बना हुआ है। स्थानीय ऑफिसर एलेक्जेंडर ने बताया कि, अगाफाया घर नहीं छोड़ना चाहतीं इसलिए उनकी सेवा और देखरेख के लिए एक नर्स उनके घर भेजने पर विचार किया जा रहा है। अगाफाया जिस इलाके में रहती हैं वहां हमेशा भेड़िये और जंगली जानवरों का खतरा बना रहता है।