A planet orbiting a dead star, 1.4 days is a year

वाशिंगटन: वैज्ञानिकों (Scientists) ने पहली बार बृहस्पति के आकार (Jupiter-sized Planet ) के एक ऐसे ग्रह का पता लगाया है जो पृथ्वी (Earth) से लगभग 80 प्रकाश वर्ष दूर एक श्वेत एवं छोटे या मृत तारे के चक्कर लगा रहा है। इस खोज से संबंधित खबर ‘नेचर’ पत्रिका (Nature Journal) में प्रकाशित हुई है। इस ग्रह को डब्ल्यूडी 1856 बी (WD 1856 b) नाम दिया गया है जो हर 34 घंटे में छोटे तारे के ध्वंसाशेष के चक्कर लगा रहा है।

अमेरिका (America) के कंसास विश्वविद्यालय (University of Kansas) के सहायक प्रोफेसर इयान क्रॉसफील्ड ने कहा, ‘‘यह ग्रह लगभग बृहस्पति के आकार का है, लेकिन इसकी परिक्रमा अवधि बहुत कम है और इस ग्रह पर एक वर्ष केवल 1.4 दिन का होता है।”

क्रॉसफील्ड ने कहा, ‘‘इस खोज से पता चलता है कि श्वेत छोटे तारों के भी अपने ग्रह हो सकते हैं जिसके बारे में अब तक हमें जानकारी नहीं थी।” 

वैज्ञानिकों को पता चला है कि बृह्मांड में ऐसे भी ग्रह हैं जो किसी तारे या अन्य प्रकाश पुंज की परिक्रमा लगाते हुए अपना अस्तित्व कायम किए हुए हैं। डब्ल्यूडी 1856 बी सबसे पहले नासा के टेस स्पेस टेलीस्कोप से दिखाई दिया। इसके बाद कई सप्ताह तक इस पर नजर रखी गई। इसकी परिक्रमा की गति देखी गई। पाया गया कि यह एक छोटे से तारे के चक्कर लगा रहा है। यह तारा कुछ वैसा ही है।