Afghanistan peace negotiators stressed on the beginning of a new era in relations with Pakistan
Image: Twitter

इस्लामाबाद: पाकिस्तान (Pakistan) की यात्रा पर आए अफगानिस्तान (Afghanistan) के शांति वार्ता (Peace Talks) दल के प्रमुख ने मंगलवार को कहा कि वक्त आ गया है कि दोनों पड़ोसी राष्ट्र संदेह और षड्यंत्र के पुराने सिद्धांतों को त्याग कर आगे बढ़ें, जिनके कारण पहले संबंध खराब रहे हैं। अब्दुल्ला अब्दुल्ला संबंधों को दुरूस्त करने के उद्देश्य से पाकिस्तान की यात्रा पर आए हैं। पिछले 12 वर्ष में यह उनकी पहली यात्रा है।

अब्दुल्ला ने इस्लामाबाद में स्थित इंस्टीट्यूट ऑफ स्ट्रैटजिक स्टडीज में कहा कि दोनों देश ‘‘परस्पर सम्मान, इमानदारी भरा सहयोग और साझी समृद्धि” पर आधारित नये संबंधों की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं।

अब्दुल्ला ने कहा, ‘‘मुझे पूरा विश्वास है कि कई वर्षों तक की दिक्कत के बाद हमें पहले की बातों को भूलना होगा और षड्यंत्र सिद्धांतों को त्यागना होगा जिस कारण हम आगे नहीं बढ़ सके। हम इसे ऐसे ही नहीं चलते रहने दे सकते। हमें नई पहल की जरूरत है और हमारे लोगों की यह मांग भी है। पहले की तुलना में अब अपने क्षेत्र को एक एकल क्षेत्र के तौर पर देखने की अब ज्यादा जरूरत है।” पाकिस्तान की शक्तिशाली सेना के प्रमुख और प्रधानमंत्री के साथ मंगलवार देर शाम होने वाली बैठक से पहले उनका यह बयान सामने आया है।