America remembers Jaswant Singh's role in US-India partnership

वाशिंगटन: अमेरिका (America) ने पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह (Jaswant Singh) के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि भरत-अमेरिका (India-America) साझेदारी को मजबूत करने के लिए उनके महत्त्वपूर्ण योगदान के लिए उन्हें याद किया जाएगा। भाजपा के संस्थापक सदस्यों में से एक और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के करीबी सहयोगी सिंह का 27 सितंबर को लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया। वह 82 वर्ष के थे।

अमेरिकी विदेश मंत्रालय (Foreign Ministry) के दक्षिण और मध्य एशिया ब्यूरो ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘एक विशिष्ट कैबिनेट मंत्री, सांसद और सैनिक जसवंत सिंह को भारतीय गणराज्य के लिए उनकी सेवा और अमेरिका-भारत साझेदारी में उनके महत्त्वपूर्ण योगदान के लिए याद किया जाएगा।”

उन्होंने कहा, ‘‘उनके परिवार और उनके लोगों के प्रति हमारी गहरी संवेदना है।” पूर्व अमेरिकी राजनयिक स्ट्रोब टालबोट ने सिंह को एक असाधारण और बुद्धिमान व्यक्ति बताया।

टालबोट ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘असाधारण व्यक्ति, अपने देश और दुनिया के लिए बुद्धिमान और सच्चे सेवक, बहादुर सिपाही, माननीय राजनेता, कुशल और प्रभावी राजनयिक, व्यापक क्षेत्र के लेखक, गर्व से भरे हुए, स्नेही और प्यारे पति और पिता और दोस्त।”

टालबोट ने 1994 से 2001 तक अमेरिका के उप विदेश मंत्री के रूप में कार्य किया, जो 1998 के परमाणु परीक्षणों के बाद अमेरिका द्वारा भारत पर प्रतिबंध लगाए जाने के बाद अमेरिका की ओर से प्रमुख वार्ताकार थे।