America's big step against China and Pakistan on religious freedom, both countries put on special list
File

वाशिंगटन: अमेरिका (America) ने पाकिस्तान (Pakistan) और चीन (China) को उन देशों की सूची में शामिल किया है, जहां धार्मिक स्वतंत्रता (Religious Freedom) का उल्लंघन विशेष चिंता का विषय है।

चीन, पाकिस्तान को किया गया लिस्ट में शामिल 

विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ (Foreign Minister Mike Pompeo) ने सोमवार को जारी एक बयान में कहा कि पाकिस्तान और चीन के अलावा म्यामां (Myanmar), इरिट्रिया (Eritrea), ईरान (Iran), नाइजीरिया (Nigeria), उत्तर कोरिया (North Korea), सऊदी अरब (Saudi Arab), ताजिकिस्तान (Tajikistan) और तुर्कमेनिस्तान (Turkmenistan) को उस सूची में रखा गया है जो ‘‘धार्मिक स्वतंत्रता के व्यवस्थित, निरंतर एवं घोर उल्लंघन” में लिप्त हैं या फिर ये उल्लंघन होने दे रहे हैं”।

विशेष निगरानी सूची में रूस

विदेश विभाग ने कोमोरोस, क्यूबा (Cuba), निकारागुआ और रूस (Russia) को विशेष निगरानी सूची में डाला है जहां की सरकारें ‘‘धार्मिक स्वतंत्रता के गंभीर उल्लंघन” में या तो लिप्त हैं या उसे होने दे रही हैं। पोम्पिओ ने कहा, ‘‘धार्मिक स्वतंत्रता एक अहस्तांतरणीय अधिकार है और मुक्त समाजों का आधार है जिन पर वे फलते-फूलते हैं। आज अमेरिका ने एक बार फिर उन लोगों की रक्षा के लिए कदम उठाया है जो यह आजादी चाहते हैं।”

चिंता का विषय बने आतंकी संघटनों की लिस्ट हुई तैयार 

अमेरिका ने अल शबाब (Al Shabab), अल कायदा (Al Qaida), बोको हराम (Boko Haram), हयात तहरीर अल शम (Hayat Tahrir Al Shaam), हूथी (Huthi), आईएसआईएस (ISIS), आईएसआईएस-ग्रेटर सहारा (ISIS- Greater Sahara), आईएसआईएस- वेस्ट अफ्रीका (ISIS- West Africa), जमात नासर अल इस्लावल मुस्लिमिन (Jamaat Nasser Al Islahul Muslimeen) और तालिबान (Taliban) को ‘‘विशेष चिंता का विषय बने संगठन” बताया।

सूडान और उज्बेकिस्तान को लिस्ट से हटाया- पोम्पिओ 

पोम्पिओ ने कहा कि सूडान (Sudan) और उज्बेकिस्तान की सरकारों द्वारा पिछले एक वर्ष के दौरान की गई उल्लेखनीय और ठोस प्रगति के चलते उन्हें विशेष निगरानी सूची से हटा दिया गया है। उन्होंने कहा, ‘‘कानून संबंधी साहसी सुधारों के चलते ये देश अन्य राष्ट्रों के लिए आदर्श हैं।”

अभी यह काम पूरा नहीं हुआ है- पोम्पिओ

रक्षा मंत्री पोम्पिओ ने कहा कि अभी यह काम पूरा नहीं हुआ है और अमेरिका (America) दुनियाभर में धर्म के नाम पर होने वाले दुर्व्यवहार एवं उत्पीड़न को खत्म करने के लिए अथक काम करता रहेगा। अंतरराष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता संबंधी अमेरिकी आयोग ने विदेश विभाग द्वारा दस राष्ट्रों को विशेष चिंता का विषय बने देशों (कंट्रीज ऑफ पर्टीक्यूलर कंसर्न या सीपीसी) की सूची में डालने के कदम की सराहना की है। हालांकि विदेश विभाग ने आयोग द्वारा भारत (India), रूस, सीरिया (Syria) और वियतनाम को भी सीपीसी सूची में डालने की अनुशंसा स्वीकार नहीं की।