आर्मीनिया, आजरबैजान ने संघर्षविराम की फिर कोशिश की

बाकू. आर्मीनिया और आजरबैजान (Azerbaijan and Armenia) ने नागोर्नो-काराबाख (Nagorno-Karabakh) को लेकर जारी तनाव के बीच एक बार फिर आधी रात से संघर्षविराम समझौता लागू करने की कोशिश की। इससे एक सप्ताह पहले भी रूस की मध्यस्थता से दोनों के बीच संघर्ष विराम को लेकर समझौता हुआ था, लेकिन इसके लागू होने के कुछ ही देर बाद इसका उल्लंघन हो गया था और दोनों पक्षों ने इसके लिए एक दूसरे को जिम्मेदार ठहराया था। रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव (Sergey Lavrov) के साथ फोन पर बातचीत के बाद आर्मीनिया और आजरबैजान के विदेश मंत्रियों ने नए समझौते की घोषणा की।

लावरोव ने दोनों देशों से मॉस्को समझौते का पालन करने की अपील की। नागोर्नो-काराबाख क्षेत्र आजरबैजान के क्षेत्र में आता है, लेकिन इस पर 1994 से आर्मीनिया समर्थित आर्मीनियाई जातीय समूहों का नियंत्रण है। नागोर्नो-काराबाख क्षेत्र को लेकर आजरबैजान और आर्मीनियाई बलों के बीच 27 सितंबर को संघर्ष शुरू हुआ था, जिसमें सैंकड़ों लोगों की मौत हो चुकी है। करीब 25 वर्षों के दौरान दोनों देशों के बीच इतने बड़े पैमाने पर छिड़ी यह पहली लड़ाई है।(एजेंसी)