ऑस्ट्रेलिया ने डब्ल्यूटीओ से कहा, बुरे बर्ताव के लिए चीनी को सजा मिले

    कैनबरा. ब्रिटेन में जी-7 (G7 Meeting) देशों की बैठक से पहले ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री ने स्कॉट मॉरिसन ने बुधवार को कहा कि विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) (World Trade Organization) (WTO), को चीन को ‘‘बुरे बर्ताव” के लिए दंडित करना चाहिए। मॉरिसन को उम्मीद है कि चीन के साथ व्यापार विवाद में जी-7 देशों के नेताओं से उन्हें समर्थन मिलेगा।

    उन्होंने कहा कि ऑस्ट्रेलिया (Australia) विश्व व्यापार संगठन की भूमिका को मजबूत करने और जरूरी होने पर अपनी नियम पुस्तिका को आधुनिक बनाने के लिए दूसरे देशों के साथ मिलकर काम करेगा। ऑस्ट्रेलिया ने दिसंबर में कहा था कि वह डब्ल्यूटीओ से जौ को लेकर चीन के साथ अपने विवाद में हस्तक्षेप करने के लिए कहेगा और उम्मीद जताई थी कि दूसरे देश भी इस मामले में उसका साथ देंगे।

    चीन ने मई 2020 में जौ की फसल पर 80 प्रतिशत से अधिक टैरिफ लगाकर ऑस्ट्रेलियाई जौ के आयात को प्रभावी ढंग से खत्म कर दिया था। उसका आरोप है कि ऑस्ट्रेलिया जौ उत्पादन को सब्सिडी देकर और उत्पादन लागत से कम कीमत पर चीन को बेचकर डब्ल्यूटीओ नियमों का उल्लंघन कर रहा है। (एजेंसी)