43 बार कोरोना पॉजिटिव आने से परेशान हुआ शख्स, पत्नी से बोला – अब मरने दो!

    लंदन. ब्रिटेन में कोविड संक्रमण का एक ऐसा मामला सामने आया है, जिससे डॉक्टर भी हैरान हैं। दरअसल इंग्लैंड के ब्रिस्टल में रहने वाले 72 साल के एक बुजुर्ग व्यक्ति जिनका नाम ‘डेव स्मिथ’ (Dave Smith) हैं वे 10 महीने से कोरोना संक्रमित थे। पेशे से रिटायर ड्राइविंग इंस्‍ट्रक्‍टर डेव स्मिथ को कोरोना से संक्रमित होने के बाद सात बार हॉस्पिटल में एडमिट करना पड़ा। उसका कोरोना टेस्ट (COVID Positive) 43 बार पॉजिटिव आया। बता दें कि ब्रिटेन में लॉन्ग कोविड का ये पहला मामला है।  

    बीबीसी को दिए इंटरव्यू में स्मिथ ने बताया कि ‘कैसे उनके शरीर में इतने दिनों तक लगातार कोरोना के वायरस बना रहा। स्मिथ ने कहा, ‘मेरी एनर्जी बिल्कुल ही कम हो गई थी और एक रात मुझे लगातार 5 घंटे तक खांसी आई। मैं जीने की पूरी उम्मीद छोड़ चुका था। मैंने अपने परिवार के सभी सदस्यों को बुलाया, सभी से शांतिपूर्वक बात कर उन्हें अलविदा कहा।’

    स्मिथ ने आगे बताया, ‘मैंने अपनी पत्नी लिन से कहा कि मैं अब नहीं बच पाउँगा। मैं खुद में फंसा हुआ महसूस कर रहा हूं। जो कि अब बद से बदतर हो चुका है।’ वहीं लिन ने कहा, ‘कई बार हमें ऐसा लगा कि स्मिथ अब इसे और नहीं झेल पाएंगे।’

    डॉक्टर ने स्मिथ का इलाज एंटी-वायरल दवाओं के मिश्रण से किया गया। जिसमें दो सप्ताह से ज्यादा का समय लगा। जब डॉक्टरों ने उन्हें बताया कि, उनकी कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आई है तो उन्हें अपने कानों पर भरोसा नहीं हुआ।  एक सप्ताह एडमिट रखने के बाद फिर टेस्ट किया गया, जिसमें रिपोर्ट नेगेटिव आया।

    स्मिथ ने कोविड टेस्ट नेगेटिव आने की ख़ुशी का जश्न शैम्पेन की बोतल खोलकर मनाया। स्मिथ ने कहा, ‘हमारे पास बहुत समय से एक शैम्पेन की बोतल थी।  आमतौर पर हम ड्रिंक नहीं करते हैं लेकिन उस रात हमने वो बोतल खोल कर नेगेटिव रिपोर्ट की खुशी मनाई।’