मैड्रिड: चीन से फैलेकोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में तबाही मचाई हुई हैं. इस जानलेवा वायरस से दुनिया भर में 30,000 हजार से ज्यादा लोग मर चुके हैं. वहीं छह लाख से ज्यादा लोग इससे संक्रमित हैं. एक

मैड्रिड: चीन से फैले कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में तबाही मचाई हुई हैं. इस जानलेवा वायरस से दुनिया भर में 30,000 हजार से ज्यादा लोग मर चुके हैं. वहीं छह लाख से ज्यादा लोग इससे संक्रमित हैं. एक और दुनिया जहां इस महामारी से लड़ने में लगी हुई हैं. वहीं दूसरी और चीन मदद के नाम पर करोडो रुपए कमाने में लगा हैं. चीन ने कोरोना से जूझ रहे स्पेन को कोरोना से बचाव के लिए इस्तमाल किये जाने वाले उपकरणों को 3,456 करोड़ में बेचे हैं. 
 
स्पेन ने चीन से ख़रीदे उपकरण 
स्पेन  के वास्‍थ्‍य मंत्री सैल्‍वाडोर इला ने बुधवार को जानकरी देते हुए कहा कि कोरोना वायरस से लड़ने के लिए 3456 करोड़ मेडिकल उपकरण  फैसला लिया हैं. जिसमे हम 950 वेंटिलेटर, 55 लाख टेस्टिंग किट्स, 1.1 करोड़ ग्‍लब्‍स और 50 करोड़ से ज्‍यादा फेस मास्‍क लिया हैं. इसी के साथ वह इटली और जापान को भी जल्द उपकरण बेचने वाला हैं. 

घटिया उपकरण भेजे 
चीन ने स्पेन को बेहद घटिया दर्जे उपकरण भेजे हैं. मिली रिपोर्ट के अनुसार चीन द्वारा भेजे  कोरोना जांच के किट बेहद घटिया निकले जिसके बाद स्पेन सरकार ने 9000 किट को तुरंत वापस भेज दिया हैं. 
 
बिना लइसेंसे वाली कंपनी ने बनाए किट 
स्पेन द्वारा वापस वापस भेजे किट पर बोलते हुए माना है कि उसने यह बिना अनुमति वाले कंपनी बायोइजी से ख़रीदे हैं. जिसके पास किट बनाने का कोई लाइसेंस नहीं हैं. चीन इस दौर में भी मदद  नहीं बल्कि मुनाफा कमाने में लगा हुआ हैं. 

मौके का फयदा उठाना चाहता है चीन 
अटलांटिक काउंसिल के यूरेशिया सेंटर में सीनियर फेलो दिमितर बेचेव का कहना है कि चीन वैश्विक महामारी के इस दौर को बेकार नहीं जाने देना चाहता है. वह मदद के नाम पर ज्यादा से ज्यादा पैसा कामना चाहता हैं. चीन वक़्त दुनिया के 82 देशों  अपने उपकरणो को भेजने वाला हैं. 
 
अमेरिका को दिखाना चाहता हैं 
चीन और अमेरिका के बीच पिछले कई दिनों से ट्रेड वॉर शुरू है. वहीं महामारी के वक़्त चीन अमेरिका के साथी देशों क दिखाना चाहता है कि दुनिया हमने कैसे कोरोना पर काबू पा लिया हैं और अमेरिका जहां बाद में कोरोना आया किस तरह वह के लोग सबसे ज्यादा संक्रमित हैं.