चीन ने भारत को धमकाया, कहा हाइड्रोजन बम से उड़ा देंगे

बीजिंग. लद्दाख में 20 भारतीय सैनिकों की निर्मम हत्‍या के बाद अब चीन ने हाइड्रोजन बम का डर दिखाना शुरू कर दिया है। दुनिया में शांति का ढोंग रचने वाले चीन के सरकारी समाचार पत्र ने वर्ष 1967 में हाइड्रोजन बम के परीक्षण का वीडियो पोस्‍ट किया है। चीनी अखबार ने दावा किया कि ये हाइड्रोजन बम आत्‍मरक्षा के लिए हैं और उनका देश परमाणु हथियारों का पहले इस्‍तेमाल नहीं करने के सिद्धांत पर कायम है। चीन निष्‍ठापूर्वक आत्‍मरक्षा की परमाणु रणनीति पर काम करता है। चीन के सरकारी अखबार ने हाइड्रोजन बम के परीक्षण का वीडियो ऐसे समय पर पोस्‍ट किया है जब भारत और अमेरिका के साथ उसका तनाव चरम पर है। माना जा रहा है कि चीन ने एक तरीके से भारत और अमेरिका को खुलेआम धमकी दी है कि वह जरूरत पड़ने पर हाइड्रोजन बम का प्रयोग कर सकता है। परमाणु हथियारों पर नजर रखने वाली अंतरराष्‍ट्रीय संस्‍था सिप्री की ताजा रिपोर्ट में कहा गया है कि चीन अब अपने परमाणु हथियारों का सार्वजनिक तौर पर और ज्‍यादा प्रदर्शन कर रहा है। हालांकि चीन अपने परमाणु हथियारों के विकास के बारे में बहुत कम जानकारी साझा करता है। चीन बहुत तेजी से अपने परमाणु हथियारों के जखीरे को आधुनिक बना रहा है और संख्‍या बढ़ा रहा है। 

चीन अपनी न्‍यूक्लियर ट्रायड की क्षमता को बढ़ा रहा है ताकि जमीन, हवा और समुद्र से परमाणु हथियारों को दागा जा सके। ड्रैगन ने जमीन और समुद्र से दागी जाने वाली नई मिसाइलें बनाई हैं और परमाणु हथियार ले जाने वाला एयरक्राफ्ट बनाया है। दुनिया में सुपर पावर बनने की महत्‍वाकांक्षा रखने वाला चीनी ड्रैगन अब बहुत तेजी से अपने परमाणु हथियारों का जखीरा बढ़ा रहा है। 

चीन के पास हैं 320 परमाणु हथियार

 भारत और चीन दोनों ने ही पिछले साल अपने परमाणु हथियारों के जखीरे में इजाफा किया है। हालांकि भारत के परमाणु हथियार चीन के आधे से भी कम हैं। सिप्री की रिपोर्ट के मुताबिक भारत के पास 150 और चीन के पास 320 परमाणु हथियार हैं। चीन ने पिछले एक साल में 30 परमाणु हथियार बढ़ाए हैं, वहीं भारत ने 10 एटम बम। उधर, पाकिस्‍तान अभी भी परमाणु हथियारों के मामले में भारत से थोड़ा आगे है। पाकिस्‍तान के पास कुल 160 परमाणु हथियार हैं। भारत के मुकाबले भले ही पाकिस्‍तान के परमाणु हथियार ज्‍यादा हों लेकिन भारतीय अधिकारी अभी भी अपनी परमाणु प्रतिरोधक क्षमता को लेकर आश्‍वस्‍त हैं। (एजेंसी)