‘रिमूव चाइना एप्स’ से चीन से बदला ले रहे भारतीय, दी ‘जैसे को तैसा’ की चेतावनी

पेइचिंग. चीनी कंपनियों द्वारा बनाये गए ऐप्स को डिलीट करने के लिए ‘रिमूव चाइना एप्स’ भारत की स्टार्टअप कंपनी वनटेक एपलैब ने बनाया गया है। चीन में इस ऐप्प को लेकर कर खलबली मची हुई है। इस सॉफ्टवेयर के माध्यम से चीन कंपनियों द्वारा निर्मित ऐप्प को पहचाना और अनइंस्टॉल किया जा सकता है। गूगल प्ले स्टोर पर 17 मई को लॉन्च होने के बाद अब तक 50 लाख से ज्यादा लोगों ने इस एप को डाउनलोड किया है। आप को बता दें कि ‘रिमूव चाइना एप्स’ नंबर दो पर पहुंच गया है। गौरतलब है कि चीन और भारत का संबंध लद्दाख सीमा और कोरोना वायरस चलते तनावपूर्ण है।   

भारत -चीन रिश्ते में दरार 

रिपोर्ट की जानकारी के अनुसार चीन के अखबार ग्लोबल टाइम्स का आरोप है कि यह सॉफ्टवेयर भारत के जिस इंजिनियर ने बनाया है चीन ने उसे कोरोना वायरस महामारी के चलते कंपनी से निकल दिया। ग्लोबल टाइम्स ने कहा है कि इंजिनियर भारत में बने चीन-विरोधी माहौल का फायदा उठा रहा है। जिससे  भारत और चीन सीमा विवाद के बीच रिश्ते खराब हो सकते है।

‘मिलेगा जैसे को तैसा’

ग्लोबल टाइम्स ने चीन की इंडस्ट्री के एक सूत्र के हवाले से बताया कि चीन ने भारत को चेतावनी दी है कि यदि भारत सरकार चीन-विरोधी भावनाओं को द्विपक्षीय संबंधों को ख़राब करती है तो उसे ‘जैसे को तैसे’ की सजा भुगतना पड़ सकता है। इचिंग के ऐनलिस्ट लिउ डिंगडिंग ने अखबार से बातचीत में दावा किया है कि भारत के इस कदम से चीनी कंपनियों पर कुछ असर नहीं होगा क्योंकि ‘मेड इन इंडिया’ की पहल बिना चीनी उत्पादन के कुछ नहीं कर सकता। भारतीय सॉफ्टवेयर के खिलाफ चीनी नेटिजेंस में भी नाराजगी देखी जा रही है। इनका कहना है कि अगर ऐसा है तो भारतीय लोगों को चीनी स्मार्टफोन फेंक देना चाहिए।

गूगल प्ले स्टोर पर 4.9 रेटिंग

गूगल प्ले पर 17 मई को इस ऐप्प को अब तक 50 लाख से अधिक यूजर्स डाउनलोड कर चुके हैं। इस ऐप्प को 4.9 रेटिंग मिली है, वहीं ज्यादातर पॉजिटिव रिव्यूज मिल रहे हैं। जानकारी हो कि इस ऐप को OneTouch AppLabs ने निर्मित किया  है।