America's action, Pakistan included in the list of countries recruiting child soldiers, sanctions may also be imposed
File

    इस्लामाबाद: वित्तीय कार्रवाई कार्य बल (एफएटीएफ) (FATF) की ‘ग्रे’ सूची (Grey List) में से निकलने के लिए तत्पर पाकिस्तान (Pakistan) की तमाम कोशिशें नाकाम होती दिखाई दे रही हैं। पाकिस्तानी मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, पाकिस्तान FATF की ग्रे लिस्ट में बना रहा है। FATF ने पाकिस्तान को किसी भी तरह की कोई राहत नहीं दी है जिसके बाद वे ग्रे लिस्ट में बरकरार रहेगा।

    एफएटीएफ ने कहा, मुख्य मुद्दा जिस पर पाकिस्तान को अभी ध्यान देना है, वह हाफिज सईद, मसूद अजहर जैसे संयुक्त राष्ट्र में सूचीबद्ध आतंकवादियों के खिलाफ कार्रवाई करने में विफलता है।

    बता दें कि, पाकिस्तान FATF की सिफारिशों पर अमल करने में विफल रहा है। धनशोधन (Money Laundering) और आतंकवाद (Terrorism) का वित्तपोषण करने के मामलों पर निगरानी करने वाली वैश्विक संस्था पेरिस स्थित एफएटीएफ ने जून 2018 में पाकिस्तान को ‘ग्रे’ सूची में डाल दिया था और तब से देश इससे निकलने की कोशिश में लगा हुआ था।

    लगातार ग्रे लिस्ट से निकलने के लिए छटपटा रहा पाकिस्तान इस उम्मीद में था कि वह FATF की ग्रे लिस्ट से बाहर आ जाएगा। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। बता दें कि, एफएटीएफ की बैठक 21 जून से शुरू हुई थी। 25 जून को वोटिंग हुई। इससे उसे तगड़ा झटका लगा।