जी-20 ने गरीब देशों के कर्ज भुगतान को छह महीने और निलंबित रखने का किया फैसला

वाशिंगटन. विश्व की बड़ी अर्थव्यवस्थाओं का मंच जी-20 (Group of 20 nations G20) ने कहा है कि उसके सदस्य देश कर्ज भुगतान छह महीने के लिये और निलंबित रखने पर सहमत हुए हैं। कोरोना वायरस महामारी(Coronavirus) के खिलाफ अभियान में वित्तीय रूप से सर्वाधिक प्रभावित गरीब देशों को समर्थन उपलब्ध कराने के इरादे से यह कदम उठाया गया है।

समूह के वित्त मंत्रियों और केंद्रीय बैंकों के गवर्नरों की बैठक के दौरान जी-20 की यह घोषणा ट्विटर के जरिये की गयी। कुल 14 अरब डॉलर से अधिक के कर्ज कर्ज भुगतान के लिये निलंबन अवधि इस साल के अंत में समाप्त हो रही थी। जी-20 के बुधवार को इस निर्णय से विकासशील देशों को कर्ज लौटाने का लेकर जून 2021 तक का समय मिला है ताकि वे स्वास्थ्य और अन्य आपात प्रोत्साहन उपायों पर खर्च कर सके। वीडियो कांफ्रेन्सिंग के जरिये जी-20 की यह बैठक हुई। यह बैठक वैसे समय हुई है जब अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष और विश्वबैंक की बैठकें शुरू हो रही हैं। सऊदी अरब के वित्त मंत्री मोहम्मद अल-जदान (Mohammed Al-Jadaan) ने बैठक के बाद संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘हमें अभी भी बहुत कुछ करने की जरूरत है।”

जी-20 के इस साल का अध्यक्ष सऊदी अरब है। उन्होंने कहा, ‘‘हमें यह सुनिश्चित करना है कि इन देशों को कोविड-19 महामारी से निपटने को लेकर पूरी सहयता मिले…हम कर्ज भुगतान को और छह महीने के लिये निलंबित रखने पर सहमत हुए हैं।” वित्त मंत्री के अनुसार अप्रैल में होने वाली बैठक में इस बात पर चर्चा की जाएगी कि क्या कर्ज लौटाने को लेकर छह महीने का समय दिये जाने की जरूरत है? उन्होंने कहा कि महामारी ने कई देशों खासकर गरीब देशों की वित्तीय स्थिरता को प्रभावित किया है। अल-जदान ने कहा कि शीर्ष नेताओं के 21-22 नवंबर को होने वाले सम्मेलन से वित्त मंत्रियों की एक और बैठक अगले महीने होगी। उन्होंने कहा कि बैठक का लक्ष्य रूपरेखा पर सहमति बनाना है। हालांकि उन्होंने इस बारे में विस्तार से कुछ नहीं बताया।(एजेंसी)