Harvard University unhappy over suspension of foreigners' work visas

वाशिंगटन. अमेरिका के हार्वर्ड विश्वविद्यालय ने कहा है कि विदेशियों के लिए कार्य वीजा को अस्थायी रूप से निलंबित करने से अध्ययन का कार्य भी प्रभावित होगा। इसमें सबसे अधिक मांग वाला एच-1बी वीजा भी शामिल है। विश्वविद्यालय का कहना है कि यह एक उचित फैसला नहीं है। हार्वर्ड विश्वविद्यालय के प्रवक्ता जोनाथन एल स्वैन ने बृहस्पतिवार कहा कि इससे हालांकि छात्र वीजा या वैकल्पिक व्यावहारिक प्रशिक्षण (ओपीटी) प्रभावित नहीं होगा, लेकिन यह निराशाजनक है कि एक सरकारी आदेश के जरिये एच-1बी सहित कुछ गैर-आव्रजक वीजा धारकों के प्रवेश पर रोक लगाई गई है।

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सोमवार को एच-1बी सहित अन्य प्रकार के विदेशी कार्य वीजा को 2020 के अंत तक स्थगित करने का आदेश जारी किया। ट्रंप ने यह कदम इस महत्वपूर्ण चुनावी वर्ष में अमेरिकियों के रोजगार के संरक्षण के लिए उठाया है। ट्रंप ने कहा कि मौजूदा आर्थिक संकट की वजह से यह कदम उठाना जरूरी था। वहीं हार्वर्ड विश्वविद्यालय के प्रवक्ता ने कहा कि यह उचित नीति नहीं है।(एजेंसी)