India gave 1 million dollars for Palestinian refugees
Image: Twitter/UNRWA

यरूशलम: भारत (India) ने कोविड-19 (Covid-19) महामारी के कारण अत्यधिक संकट का सामना कर रहे फलीस्तीनी (Palestine) शरणार्थियों के लिये संयुक्त राष्ट्र (United Nations) की एक एजेंसी में 10 लाख डॉलर का योगदान किया है। भारत सरकार ने ‘यूनाइटेड नेशंस रिलीफ एंड वर्क्स एजेंसी फॉर रिफ्यूजी इन द नियर ईस्ट’ (यूएनआरडब्ल्यूए) (UNRWA) को फलस्तीन में अपने प्रतिनिधि सुनील कुमार के जरिये मदद स्वरूप चेक प्रदान किया। यूएनआरडब्ल्यूए ने भारत द्वारा समय पर की गई इस मदद की सराहना की है।

यूएनआरडब्ल्यूए के संचार निदेशक सामी मशाशा ने कहा, ‘‘भारत, फलस्तीनी शरणार्थियों का दशकों से प्रबल और लगातार समर्थक रहा है। इस नाजुक समय में यह योगदान कहीं अधिक महत्वपूर्ण है।”

मशाशा ने कहा, ‘‘भारत अपने यहां महामारी की मुश्किल स्थिति का सामना कर रहा है और वह फिर भी वह फलस्तीनी शरणार्थियों को नहीं भूला तथा उसने फलस्तीनी शरणार्थियों की शिक्षा, स्वास्थ्य, राहत एवं सामाजिक सेवाएं जैसी मूलभूत जरूरतों में मदद करने के लिये कदम उठाये। मैं यूएनआरडब्ल्यूए में भारत सरकार के लगातार योगदान और पूरे पश्चिम एशिया में फलस्तीनी शरणार्थियों को उसके समर्थन करने को लेकर धन्यवाद देना चाहूंगा।”

वहीं, कुमार ने यूनआरडब्ल्यूए के लिये भारत के लगातार सहयोग का जिक्र करते हुए एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा , ‘‘यूएनआरडब्ल्यूए द्वारा की कई उल्लेखनीय कोशिशों को लेकर भारत सरकार की ओर से मैं अपनी सराहना प्रकट करना चाहता हूं। फलस्तीनी शरणार्थियों को महत्वपूर्ण सेवाओं और आवश्यक मानवीय सहायता मुहैया करने में संयुक्त राष्ट्र की एजेंसी की गतिविधियों का भारत समर्थन करना जारी रखेगा।” भारत ने कोविड-19 संकट से निपटने में फलस्तीनी राष्ट्रीय प्राधिकरण की मदद के लिये दवाइयां एवं अन्य वस्तुएं भी भेजी हैं।