यूरोप का पहला ‘मास्क फ्री’ देश बना इटली, भारत में भी बढ़ा रिकवरी रेट

    नई दिल्ली. यूरोप में कोरोना वायरस (Coronavirus) का गढ़ बन चुके इटली से अच्छी खबर है। इटली ने मास्क (Mask-free)  पहनने की अनिवार्यता को समाप्त कर दिया है। वह ऐसा करने वाला यूरोप का पहला ऐसा देश बन गया है। बता दें कि,  इटली ने अपने 20 राज्यों को लो कोरोना रिस्क की श्रेणी में रखा है। अब यहां कोरोना वायरस के सिर्फ 54682 मामले बचे है।  

    कोरोना के खिलाफ लड़ाई में इटली ने वैक्सीन के टीकाकरण (Corona Vaccination) को तेजी से बढ़ाया और अब वहां पर संक्रमण की खतरा कम हुआ है जिस वजह से वहां की सरकार ने नागरिकों के लिए मास्क की बाध्यता को समाप्त कर दिया है। गौरतलब हो कि, पूरे यूरोप में इटली में कोरोना की वजह से सबसे ज्यादा तबाही हुई थी और यूरोप में ब्रिटेन के बाद वहीं पर सबसे ज्यादा लोगों की कोरोना से मौत हुई है। इटली में कुल मिलाकर कोरोना वायरस के अबतक 42.58 लाख मामले सामने आए हैं जिनमें 40.76 लाख से ज्यादा लोग ठीक हो चुके हैं लेकिन 1.27 लाख से ज्यादा लोगों की जान भी गई है।

    भारत में भी वैक्सीन के ववैक्सीनेशन का अभियान तेज गति से आगे बढ़ रहा है लेकिन भारत में जनसंख्या इटली के मुकाबले कई गुना ज्यादा है जिस वजह से भारत में पूरी जनसंख्या तक वैक्सीन के टीकाकरण को पहुंचाने में अभी थोड़ा समय लग सकता है और मास्क की वाध्यता को खत्म होने में भी समय लगेगा। 

    देश  में मंगलवार सुबह तक 32.90 करोड़ लोगों को वैक्सीन दी जा चुकी है जो इटली की जनसंख्या से 5 गुना ज्यादा है। इटली की जनसंख्या लगभग 6.03 करोड़ है और भारत में 5.79 करोड़ लोगों को वैक्सीन की दोनों डोज मिल चुकी है जबकि 27.11 करोड़ लोगों को अभी वैक्सीन की पहली डोज ही मिली है।