leaders from many countries will join the ceremony organized on Bangladesh's 50th Independence Day, PM Narendra Modi will also be present

    ढाका: बांग्लादेश (Bangladesh) की पाकिस्तान (Pakistan) से आजादी के 50 साल पूरे होने के मौके पर आयोजित होने वाले समारोहों में, इस माह के आखिर में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) और नेपाल (Nepal), श्रीलंका (Sri Lanka), भूटान (Bhutan) और मालदीव (Maldives) की सरकारों के प्रमुखों सहित विश्व के कई नेता हिस्सा लेंगे। वर्ष 1971 में बांग्लादेश के मुक्ति संग्राम के बाद पाकिस्तान से देश को आजादी मिलने की 50वीं वर्षगांठ पर 17 से 27 मार्च तक विभिन्न समारोहों का आयोजन किया जाना है। आजादी की 50वीं वर्षगांठ और राष्ट्रपिता बंगबंधु शेख मुजीबुर रहमान की जन्म शताब्दी साथ-साथ मनाई जायेगी।

    बांग्लादेश सरकार के प्रधान सूचना अधिकारी सुरथ कुमार सरकार ने ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया कि प्रधानमंत्री मोदी और नेपाल, श्रीलंका, भूटान और मालदीव के प्रमुख अलग-अलग कार्यक्रमों में शामिल होने वाले विशिष्ट विदेशी मेहमानों में शामिल होंगे। मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सोलीह 17 मार्च को तीन दिवसीय दौरे पर आने वाले पहले शीर्ष विदेशी गणमान्य अतिथि होंगे। इसके बाद श्रीलंका के प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे हैं जो 19 मार्च को दो दिवसीय दौरे पर ढाका आएंगे। नेपाल की राष्ट्रपति बिद्या देवी भंडारी 22 मार्च से दो दिवसीय दौरे पर ढाका में रहेंगी, जबकि भूटानी प्रधानमंत्री लोताय त्शेरिंग 24 मार्च से 25 मार्च तक देश में रहेंगे।

    प्रधानमंत्री मोदी दो दिवसीय यात्रा पर 26 मार्च को आएंगे और मुख्य स्वतंत्रता दिवस समारोह में शामिल होंगे। यह मौका बांग्लादेश-भारत के राजनयिक संबंधों के 50 साल पूरे होने का भी होगा। सरकार ने बताया कि विदेशी गणमान्य अतिथि राष्ट्रपिता की जन्म शताब्दी के मौके पर बंगबंधु संग्रहालय भी जाएंगे। बांग्लादेश ने स्वतंत्रता के 50 साल पूरे होने और बंगबंधु की जन्मशताब्दी के मौके पर भव्य समारोहों के आयोजन की योजना बनाई थी लेकिन कोरोना वायरस महामारी के कारण उसे अपनी योजना में बदलाव करना पड़ा।