NASA releases satellite picture of Beirut blast
Image Source: Twitter-NASA

मुंबई: लेबनान (Lebanon) की राजधानी बेरूत में हुए विस्फोट (Beirut Explosion) से बेरूत को काफी नुकसान पहुंचा है। इस नुकसान को जानने काप्रयास नासा (NASA) ने अपने उपग्रह जनित डाटा के इस्तेमाल से किया है। नासा के एडवांस रैपिड इमेजिंग एंड एनालिसिस (एआरआईए) (Advance Rapid Imaging And Analysis) ने सिंगापुर (Singapore) की अर्थ ऑब्जरवेट्री (Earth Observatory) के साथ मिलकर कुल हुए नुकसान के बारे में जानकारी के लिए उपग्रह जनित सिंथेटिक अर्पचर राडार डाटा का विश्लेषण किया है और इसकी तस्वीर भी पब्लिश की गई है। नासा ने ये तस्वीर अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर भी जारी किया है।

तस्वीर के जरिये नुक्सान का आकलन किया जा सकता है और प्रशासन उन इलाकों की पहचान कर सकता है जो इलाके घटना में सबसे ज्यादा  प्रभावित हुए हैं। नासा की रिपोर्ट कहती है कि आकाश से मिला सिंथेटिक अपर्चर डाटा दिखाता है कि ऐसी बड़ी घटना के बाद धरती की सतह पर क्या बदलाव पहले के मुकाबले आते हैं। एआरआईए के जरिये लिए गए इमेज में देखा जा सकता है कि जिन जगहों पर गहरे लाल पॉइंट्स मौजूद हैं वो क्षेत्र में विस्फोट हुआ है और ये वही इलाके हैं जो इस विस्फोट में प्रभावित हुए हैं। वहीं तस्वीर में नारंगी रंग वो इलाके हैं जहां नुकसान माध्यम हुआ है और पीले रंग के बिंदुवाला हिस्सा वो क्षेत्र है, जो धमाके के बावजूद कम नुकसान हुआ है। हर बिंदु 30 मीटर के इलाके को दर्शाता है।  

बेरूत में हुए विस्फोट के कारण अब तक करीब 165 लोगों की मौत हो चुकी है और 6,000 से ज्यादा लोग प्रभित हुए हैं। जांच में पाया गया था कि 2,750 टन अमोनियम नाइट्रेट छह वर्षों में बंदरगाह पर जमा होता रहा जो जिसमें विस्फोट हो गया। एक रिपोर्ट के अनुसार, इस विस्फोट से 10 अरब डॉलर से लेकर 14 अरब डॉलर तक का नुकसान हुआ है और करीब 3,00,000 लोग बेघर हो गए हैं।