NSA डोभाल की श्रीलंकाई प्रधानमंत्री राजपक्षे से मुलाकात, रक्षा सचिव के साथ द्विपक्षीय संबंधों पर हुई बातचीत

कोलंबो: राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (National Security Advisor) अजित डोभाल (Ajit Doval) ने शुक्रवार को श्रीलंका (Sri Lanka) के प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे (Mahinda Rajapaksa) से मुलाकात की। उन्होंने देश के रक्षा सचिव (Defense Secretary) के साथ भी बैठक कर द्विपक्षीय संबंधों पर विचार-विमर्श किया। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजित डोभाल भारत (India), श्रीलंका (Sri Lanka) और मालदीव (Maldives) के बीच समुद्री सुरक्षा (Maritime Security) को लेकर त्रिपक्षीय वार्ता के लिए शुक्रवार को यहां पहुंचे।

श्रीलंका, भारत और मालदीव के साथ शुक्रवार और शनिवार को समुद्री सुरक्षा सहयोग पर राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों की चौथी त्रिपक्षीय बैठक का आयोजन कर रहा है। छह साल बाद यह बैठक हो रही है। इससे पहले यह बैठक 2014 में नयी दिल्ली में हुई थी। कोलंबो में भारतीय उच्चायोग ने ट्वीट किया, ‘‘एनएसए अजित डोभाल ने प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे से मुलाकात की। एनएसए ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) की ओर से उन्हें बधाई दी और द्विपक्षीय सहयोग में प्रगति के लिए दोनों नेताओं के बीच सफल ऑनलाइन द्विपक्षीय शिखर सम्मेलन के योगदान को याद किया।”

मोदी ने सितम्बर में सम्मेलन के दौरान श्रीलंकाई प्रधानमंत्री राजपक्षे से व्यापक चर्चा की थी। डोभाल ने श्रीलंका के रक्षा सचिव मेजर जनरल (सेवानिवृत्त) कमल गुणारत्ने से भी मुलाकात की और वे दोनों देशों के बीच ‘‘मूल्यवान” सहयोग को और बढ़ाने के लिए कई कदमों पर सहमत हुए। कोलंबो में भारतीय उच्चायोग ने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘‘एनएसए अजित डोभाल ने मेजर जनरल (सेवानिवृत्त) कमल गुणारत्ने से मुलाकात की और दोनों देशों के बीच रक्षा और सुरक्षा साझेदारी से संबंधित मामलों को लेकर विचार-विमर्श हुआ।”

डोभाल के कोलंबो पहुंचने पर सैन्य कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल सिल्वा शवेंद्र ने गर्मजोशी से उनका स्वागत किया। डोभाल और मालदीव की रक्षा मंत्री मारिया दीदी के इस त्रिपक्षीय बैठक में अपने-अपने देशों का नेतृत्व करने की उम्मीद है। श्रीलंकाई सेना ने कहा कि बांग्लादेश, मॉरीशस और सेशेल्स के पर्यवेक्षक भी रहेंगे। हिंद महासागर क्षेत्र में समुद्री सुरक्षा पर समन्वित कार्रवाई, राहत और बचाव अभियान का प्रशिक्षण, समुद्र में बढ़ते प्रदूषण को लेकर कदम उठाने, सूचनाएं साझा करने, अवैध हथियारों, मादक पदार्थों की तस्करी पर लगाम लगाने जैसे विषयों पर चर्चा होगी।

नयी दिल्ली में विदेश मंत्रालय ने बृहस्पतिवार को कहा था कि एनएसए स्तर की त्रिपक्षीय बैठक हिंद महासागर के देशों के बीच सहयोग बढ़ाने के लिए एक प्रभावी मंच हैं। विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा था, ‘‘हिंद महासागर क्षेत्र में समुद्री सुरक्षा को लेकर सहयोग से जुड़े मुद्दों पर चर्चा होगी।” इस साल डोभाल का श्रीलंका का यह दूसरा दौरा है। इससे पहले वह जनवरी में श्रीलंका आए थे और दोनों देशों के द्विपक्षीय संबंधों पर चर्चा की थी।